बेटा या बेटी किसकी होगी उत्पत्ति, ये हैं लक्षण

प्रेग्नेंट होने के फ़ौरन बाद सारी महिलाए यही सोचने लग जाती है कि आपको लड़की होगी या फिर लड़का, प्रेग्नेंट होने के करीब 18 से 20 हफ्ते बाद अल्ट्रासाउंड से इस बात का पता लगाया जा सकता है। लेकिन यह भारत में अवैध माना जाता है और इस काम के लिए आपको कानून द्वारा दंडित भी किया जा सकता है।

लेकिन कुछ संकेतो के द्वारा आप इसका पता लगा सकते है कि आपके गर्भ में पल रहा शिशु लड़का है या फिर लड़की जिसके लक्षण कुछ इस तरह से है।

अगर आप कम खाना खाती हैं

पुराने जमाने की महिलाओं से पता चला है कि आपके पेट की स्थिति को देखकर भी पता लगाया जा सकता है। कि आपके पेट में लड़का है या लड़की। अगर आप कम खाना खाती है और आपका पेट नीचे की तरफ से भारी है तो फिर यह एक लड़का हो सकता है। और इसके विपरीत वह लड़की भी हो सकती है।

अगर आप खूबसूरत नहीं दिख रही है

अगर आपकी बॉडी में मौजूद हार्मोन आपको सुस्त व मुहांसे से ग्रस्त त्वचा दे रहे हैं तो फिर इसका यह मतलब है कि आपको लड़का हो सकता है। और इसके विपरीत वह लड़की भी हो सकती है।

बार-बार आपके पैरो का ठंडा होना

अगर यह आपका पहला बच्चा है और आपके हाथ-पैर जल्दी-जल्दी ठंडे हो जाते है तो फिर यह एक लड़का हो सकता है। और इसके विपरीत वह लड़की भी हो सकती है।

दिल की धड़कन

अपने बच्चे की धड़कन को सुनना एक बहुत ही खुशी का पल होता है जिसे हम शब्दों में स्पष्ट नहीं बता सकते है और यह भी कहा जाता है कि बच्चे की धड़कन से यह अनुमान लगाया जा सकता है कि आपके गर्भ में पल रहा लड़का है या फिर लड़की।

बहुत से लोगो का मानना हैं कि अगर एक मिनट में बच्चे का दिल 140 बार से कम धड़कता है तो फिर आपको लड़का हो सकता है और अगर दिल कि धड़कन 140 से ज़्यादा है तो फिर वह एक लड़की हो सकती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper