बड़ी कार्रवाई: एटा और मैनपुरी में 190 फर्जी शिक्षकों की सेवा समाप्त

एटा और मैनपुरी जिले के 190 फर्जी शिक्षकों को शनिवार को बर्खास्त कर दिया गया। एसआईटी की जांच में इनकी बीएड की डिग्रियां फर्जी मिली थीं। ये डिग्रियां आगरा विश्वविद्यालय से सत्र 2004-05 में जारी हुई थीं। बर्खास्त शिक्षकों में 116 एटा के और 74 मैनपुरी के हैं।

एटा में फर्जी प्रमाणपत्र लगाकर नौकरी लेने वालों में 120 की जांच चल रही थी। इसमें से तीन लोग हाईकोर्ट चले गए हैं। एक अन्य शिक्षक ने गलत नाम सूची में शामिल होने का दावा किया है। इसकी अलग से जांच कराई जा रही है। जांच के दौरान सभी को नोटिस भी दिए गए थे। लेकिन कोई भी संतोषजनक जवाब नहीं दे सका। अंत में शनिवार को बीएसए संजय सिंह ने इनकी सेवा समाप्त कर दी।

उधर मैनपुरी में 78 फर्जी शिक्षकों में से 4 शिक्षकों को तीसरा नोटिस जारी किया जाएगा। इसके बाद इन पर कार्रवाई होगी। बाकी की शनिवार को बर्खास्तगी कर दी गई है। इन शिक्षकों से वेतन की रिकवरी भी की जाएगी और एफआईआर भी होगी। इनकी दो साल से जांच चल रही थी। डीएम पीके उपाध्याय के निर्देश पर शनिवार को बीएसए विजय प्रताप सिंह ने ये कार्रवाई की।

बड़ी कार्रवाई

फर्जी बीएड की डिग्री लगाकर कर रहे थे नौकरी, एसआईटी जांच में खुला मामला
एटा के 116, मैनपुरी के 74 फर्जी शिक्षकों पर कार्रवाई, आगरा विवि की थी डिग्रियां

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper