भांग से बनी दवा से होगा कैंसर का इलाज, AIIMS के मरीजों से होगी शुरुआत

नई दिल्ली: अब भांग से बनी दवा से कैंसर का इलाज शायद आगे संभव हो सकेगा। जी हां, चूहों पर की गई स्टडी से यह साबित हो गया है कि भांग के इस्तेमाल से कैंसर को कम किया जा सकता है। अब आगे एम्स के डॉक्टर भांग का इस्तेमाल इंसानों पर भी करने की तैयारी कर रहे है। एम्स के डॉ. अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि इस स्टडी के लिए आयुष मंत्रालय को प्रस्ताव भेज दिया गया है। मंजूरी मिलने के बाद तुरंत इस स्टडी पर काम शुरु कर दिया जाएगा।

जानकारी देते हुए डॉ श्रीवास्तव ने बताया इस रिसर्च में 450 मरीजों को शामिल किया जाएगा, जिन्हें कीमोथेरपी दी जा रही है। इस दौरान कैंसर के मरीजों को कैप्सूल के रूप में भांग की पत्तियों से बनी दवा दी जाएगी। हम यह पता लगाने की कोशिश करेंगे कि भांग में पाए जाने वाले प्राकृतिक पदार्थ कैनाबाइडियॉल (सीबीडी) से कीमोथैरपी में इस्तेमाल होने वाली जेमसिटाबाइन पर किस तरह का असर होता है।

उन्होंने कहा कि कई रिसर्च में यह सामने आया है कि मेडिकल गुण वाले भांग में मौजूद कैनाबाइडियॉल (सीबीडी) कीमोथेरेपी के साइडइफेक्ट को कम करता है। जिससे मरीजों को भूख बढ़ने, चिड़चिड़ापन कम, उल्टी जैसी परेशानी खत्म हो सकती है। यही नहीं भांग से बनी दवा कैंसर मरीजों के मूड को भी बेहतर बनाए रखेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper