भाजपा का हाथ थाम सकते हैं कांग्रेस के नाराज विधायक

दिल्ली ब्यूरो: कर्नाटक में जेडीएस और कांग्रेस गठबंधन सरकार की मुश्किलें कम होती दिखाई नहीं दे रही है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी अपनी नई सरकार के बीच घिर चुके हैं। सीएम मंत्रिमंडल विस्तार से नाखुश कांग्रेस विधायकों को समझाने-बुझाने का लगातार प्रयास कर रहे हैं बावजूद इसके वे मानने को तैयार नहीं है। सूत्रों के अनुसार कुछ असंतुष्ट विधायकों ने कांग्रेस छोड़ने का मन बना लिया है और वह जल्द ही भाजपा से हाथ मिला सकते हैं।

कांग्रेस पार्टी ने गठबंधन सरकार में एम बी पाटिल, दिनेश गुंडु राव, रामलिंगा रेड्डी, आर रौशन बेग, एच के पाटिल, तनवीर सैत, शामानूर शिवशंकरप्पांड और सतीश जारखिहोली समेत पिछली सिद्धरमैया मंत्रिमंडल के कई अहम सदस्यों को नयी गठबंधन सरकार में जगह नहीं दी है। ये नेता काफी खफा हैं और इनके बीच काफी बैठकें हो चुकी हैं। कांग्रेसी विधायक एचएम रेवन्ना ने नाराजगी जताते हुए कहा कि वह भाजपा के नेताओं से बातचीत कर रहे हैं और वह जल्द ही इसे जॉइन कर सकते हैं।

विधायकों का आरोप है कि केसी वेणुगोपाल और उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर ने अपना रोल सही से नहीं निभाया है। एम टी बी नागराज, सतीश जारकिहोली, सुधाकर और रोशन बेग समेत असंतुष्ट नेताओं के एक समूह ने पाटिल के निवास पर बैठक की थी। पार्टी सूत्रों के अनुसार पिछले तीन दिनों ऐसी कई बैठकें हो चुकी हैं जिसमें पूर्व मंत्री एच के पाटिल भी शामिल हुए। वहीं वीरवार को कई असंतुष्ट नेताओं और उनके समर्थकों ने कांग्रेस के खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी किया। खबर मिल रही है कि बीजेपी ने अपने कुछ कूटनीतिज्ञों इस काम पर लगा दिया है। बीजेपी किसी भी सूरत में कुमारस्वामी सरकार को गिराकर अपनी सरकार बनाना चाह रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper