भाजपा ने हारे हुए नेताओं को सौंपी विस चुनाव की कमान

भोपाल: प्रदेश भाजपा ने एक बार फिर से विधानसभा चुनाव में हारे हुए नेताओं को लोकसभा चुनाव की कमान सौंप दी है। इन नेताओं के विरोध में क्षेत्र में भारी असंतोष पनप रहा है, जिसका खामियाजा पार्टी को लोकसभा चुनाव के दौरान भी भुगतना पड सकता है। भोपाल लोकसभा में उमाशंकर गुप्ता, जसवंत सिंह हाड़ा जैसे नेताओं को संयोजक और प्रभारी बनाया गया है। इसी तरह लोकसभा चुनाव के लिए जिन संगठन मंत्रियों पर पार्टी दोबारा भरोसा कर रही है, उनके नेतृत्व में ही विधानसभा चुनाव में पराजय मिली है।

पार्टी सूत्रों का कहना है कि जिले और संभाग में कई संगठन मंत्री हैं, जिन्होंने कार्यकर्ताओं का भरोसा खो दिया है। भाजपा सरकार में लंबे समय तक उमाशंकर गुप्ता मंत्री रहे। विधानसभा चुनाव हारने के बाद अब पार्टी ने भोपाल लोकसभा चुनाव का संयोजक बनाया है। शाजापुर से विधायक रहे जसवंत सिंह हाड़ा को विधानसभा चुनाव का टिकट देना भी उचित नहीं समझा था। उन्हें पार्टी ने भोपाल लोकसभा चुनाव प्रभारी का दायित्व सौंपा है।

पार्टी नेताओं की बात मानी जाए तो जिन नेताओं को प्रदेशभर में लोकसभा चुनाव की तैयारी में लगाया गया है, उनमें ज्यादातर के खिलाफ क्षेत्र में भारी नाराजगी है। इसी कारण या तो वे चुनाव हार गए या पार्टी ने ही उन्हें चुनाव मैदान में नहीं उतारा। संगठन से जुड़े नेताओं को लेकर भी पार्टी कार्यकर्ताओं में नाराजगी है। जिले और संभाग के संगठन मंत्रियों की कार्यशैली के कारण कार्यकर्ताओं ने विधानसभा चुनाव में उत्साह से काम नहीं किया। कार्यकर्ताओं की मानें तो संगठन मंत्रियों ने सिर्फ विधायक, मंत्री या रसूखदारों तक ही खुद को सीमित कर रखा था। कार्यकर्ताओं से मिलने के लिए कोशिश करते तो भी उनकी फरियाद नहीं सुनी जाती थी।

भाजपा के बुजुर्ग नेताओं का कहना है कि हमारे संगठन की रीढ़ की हड्डी कहे जाने वाले नेता यानी संगठन मंत्री भी ऐश-ओ-आराम के मोहजाल में फंस चुके हैं, जिस कारण वे कार्यकर्ताओं को एक नजर से देख नहीं पाते। इस संबंध में भाजपा के मुख्य प्रदेश प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय का कहना है कि चुनाव में हार-जीत परिस्थितिजन्य भी होती है पर हर संसदीय क्षेत्र में जिन्हें लोकसभा संयोजक या प्रभारी की जिम्मेदारी दी गई है, वे सभी पार्टी के प्रति निष्ठावान और अनुभवी नेता हैं। इसके अलावा सभी क्षेत्र के लिए एक 18 सदस्यीय संचालन टीम बनाई जाएगी। इसमें संगठन, चुनाव विधि सहित सोशल मीडिया के कार्यकर्ता भी होंगे। जो चुनाव कार्य का संचालन देखेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper