भारतीय वायु सेना ने पीओके में की एयर स्ट्राइक, पीएम आवास पर सीसीएस बैठक में बनी आगामी रणनीति

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर के पुलवामा अटैक के बाद भारत की वायु सेना ने पाकिस्तान को करारा जवाब देते हुए पीओके में घुसकर एयर स्ट्राइक (हवाई हमले) को अंजाम दिया है। इस कार्रवाई के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आवास पर सुरक्षा संबंधी कैबिनेट समिति की बुलाई गई जिसमें वित्त मंत्री अरुण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, प्रधानमंत्री कार्यालय के अन्य शीर्ष अधिकारी और सुरक्षा विभाग से जुड़े तमाम आला अधिकारी बैठक में मौजूद रहे।

सूत्रों के अनुसार भारत ने मंगलवार को तड़के पाकिस्तान के भीतरी हिस्सों में हवाई हमला कर आतंकवादी ठिकानों को नष्ट किया है। भारतीय वायुसेना के विभिन्न लड़ाकू विमानों ने खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के बालाकोट में पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूहों के कई शिविरों को सफलतापूर्वक नष्ट कर दिया। गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल की सुरक्षा मामलों की समिति (सीसीएस) की बैठक हुई। जिसमें देश की सुरक्षा को लेकर कई अहम फैसले लिए गए थे, साथ ही सुरक्षा स्थिति पर विचार विमर्श किया गया।

भारत से डरकर पाक ने एयरफोर्स को ‎किया अलर्ट

क्यों होती है सीसीएस बैठक- सुरक्षा स्थिति पर विचार विमर्श और दुश्मनों के खिलाफ रणनिति बनाने के लिए ये बैठक आयोजित की जाती है। इस मीटिंग में दुश्मनों को कैसे जवाब दे सकते हैं उसकी रणनीति बनाई जाती है। भारत सरकार की केंद्र सरकार की कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी (सीसीएस) देश की सुरक्षा को लेकर चर्चा, बहस करती है। जिसके बाद राष्ट्रीय सुरक्षा उपकरण, रक्षा नीति और सुरक्षा में खर्च को लेकर अंतिम निर्णय लिए जाते हैं। इस मीटिंग की अध्यक्षता भारत के प्रधानमंत्री करते हैं।

एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान की ओर से आगे उठाए जाने वाले कदम पर भी बातचीत हो सकती है। इस एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान में हड़कंप मच गया है और इस्लामाबाद में विदेश मंत्रालय की ओर से आपात बैठक बुलाई गई है। पाकिस्तान ने इस हमले की पुष्टि की है, हालांकि वह नुकसान की आंकडे़ छुपा रहा है। माना जा रहा है इस एयर स्ट्राइक से 200 से 300 के बीच आतंकी मारे गए हैं।

भारतीय वायुसेना ने सुबह करीब 3 बजे 12 मिराज विमानों के जरिए इस एयर स्ट्राइक को अंजाम दिया है। इस स्ट्राइक में जैश के ठिकानों को निशाना बनाया गया है और जैश का कंट्रोल रूम अल्फा-3 पूरी तरह नष्ट हो गया है। माना जा रहा है कि भारतीय सेना और रक्षा मंत्रालय दोपहर में इस पूरी कार्रवाई के बारे में मीडिया को बताएंगे। पुलवामा आतंकी हमले के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा कि हमारी सेना सही वक्त पर अपने तरीके से इस हमले का जवाब देगी। इस बयान के बाद पाकिस्तान में खलबली थी और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत के सामने बातचीत तक का प्रस्ताव रखा था। लेकिन पाकिस्तान फिर भी बाज नहीं आया है और 14 फरवरी को पुलवामा हमले के बाद से लगातार सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है।

वायुसेना की इस कार्रवाई की कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी सराहना की है। उन्होंने ट्वीट कर वायु सेना के जवानों को सलाम किया है। साथ ही जम्मू कश्मीर से पूर्व मुख्यमंत्री उमर अबदुल्ला समेत तमाम राजनीतिक दलों के नेताओं ने भारतीय वायु सेना की इस कार्रवाई पर देशवासियों को बधाई दी है। पुलवामा में 40 सीआरपीएफ जवानों की शहादत के बाद भारत ने पाकिस्तान को कड़ा संदेश देते हुए आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई के संकेत दिए हैं। यहां तक की बीते दिनों अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तक यह कह चुके हैं कि मौजूदा माहौल को देखते हुए भारत कुछ बड़ा करने वाला है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper