भारत से भयभीत पाकिस्तान 30 मई तक हवाई क्षेत्र रखेगा बंद

इस्लामाबाद: भारत की सामरिक रणनीति से सहम कर पाकिस्तान भारतीय उड़ानों के लिए अपने हवाई क्षेत्र पर लगे प्रतिबंध को 30 मई तक जारी रखेगा। विश्लेषकों का मानना है कि पाक, भारत में हो रहे लोकसभा के चुनाव परिणामों के आ जाने के बाद वह अपनी रणनीतियों को आगे बढ़ाएगा। लिहाजा, पाकिस्तान की इस डरपोरक नीति के चलते भारत को रोजाना लाखों रुपये का नुकसान उठाना पड़ रहा है।

पाकिस्तान ने 26 फरवरी को बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के शिविर पर भारतीय वायुसेना की कार्रवाई के बाद से अपने हवाई क्षेत्र को बंद कर दिया था। इस क्रम में 27 मार्च को नई दिल्ली, बैंकॉक और कुआलालंपुर को छोड़कर सभी उड़ानों के लिए अपना हवाई क्षेत्र खोल दिया था। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान में रक्षा और विमानन मंत्रालयों के अधिकारियों ने बुधवार को भारतीय उड़ानों को अपने हवाई क्षेत्र को खोलने को लेकर एक बैठक की। इस बैठक में पाक अधिकारियों ने अपने हवाई क्षेत्र में 30 मई तक भारतीय उड़ानों के लिए प्रतिबंध जारी रहने की बात कही। पाक अधिकारियों का कहना है कि भारतीय विमानों के लिए पाक हवाई क्षेत्र खोलने संबंधी अगली बैठक 30 मई को होगी।

गौरतलब है कि पाकिस्तान ने अपने हवाई क्षेत्र को भारतीय विमानों के लिए बैंकॉक, कुआलालंपुर के लिए संचालन को बंद कर दिया है। इससे रोजाना भारत को लाखों रुपये का नुकसान उठाना पड़ रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper