भिंडी खाएं ,मधुमेह को दूर भगाएं, अगर यकीन नहीं होता तो खुद आजमाएं

नई दिल्ली। बदलते समय के साथ खान -पान में भी बदलाव आता जा रहा है। खान -पान के इस बदलाव से लोगों में कई तरह की बीमारी पैदा हो जाती है। इसी तरह की एक बीमारी मधुमेह है। मधुमेह की बीमारी होना आज लोगों में आम बात हो गई है। मधुमेह के ईलाज में हम आपने कितना ही पैसे खर्च कर देते हैं, लेकिन अब आपको परेशान होने की जरुरत नहीं है. क्योंकि अब हम आपको बताने वाले हैं। भिंडी से ईलाज के कुछ घरेलु नुस्खे जिसे आप अपनी मधुमेह की बीमारी का कर सकते है घर पर ही ईलाज।

क्यों खाएं भिंडी

कच्ची भिंडी खाने से मधुमेह पर कंट्रोल किया जा सकता है । भिंडी में घुलनशील फाइबर डायबिटिक होता है जो रोगियों की सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

कैसे करें उपयोग

2 कच्ची भिंडी को अच्छे से धोकर आगे और पिछे से काट लें फिर 1कप पानी में लें और उस में डाल दें। बाद में सोते वक्त कप के ऊपर प्लेट रख दें सुबह उठ कर कप से भिंडी को बहार निकाल कर पानी को पी लें इस से आपका शुगर कंट्रोल रहेगा इस विधि को लगतार कुछ महीने करें। कच्ची भिंडी खाना ज्यादा फायदेमंद होता है।

किड़नी के रोग से बचाव

टाइप 2 डायबिटीज का असर किड़नी पर भी पडता है । भिंडी खाने से डायबिटीज के साथ -साथ किड़नी की बिमारी भी दूर होती है। अगर आप इन दोनों में से किसी भी बीमारी से ग्रस्त है तो आपको ये उपाय जरुर करने चाहिए। मधुमेह के रोगी को उन फलों और सब्जियों को खाना चाहिए, जिनमें ग्लाइसिमिक इंडेक्स की मात्रा कम होती है। आपको बता दें की ग्लाइसिमिक इंडेक्ट हमारे खाने में मौजुद कार्बोहाइड्रेट के कणों को जल्दी-जल्दी तोड़कर खाने में मिला देता है, आपको मधुमेह की बीमारी हो जाती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper