भ्रष्टाचार के मामले में 180 देशों में 80वें स्थान पर भारत

कराची: भारत और पाकिस्तान के बीच के तीखे तनाव का विपरीत असर दोनों देशों के बीच होने वाले व्यापार पर पड़ा है और इसमें काफी बड़े पैमाने पर कमी दर्ज की गई है। पाकिस्तान स्टेट बैंक के आंकड़ों के मुताबिक, वित्तीय वर्ष 2019-20 की पहली छमाही में दोनों देशों के बीच का व्यापार बहुत निम्न स्तर पर पहुंच गया है और यह जितना भी रहा है, उसमें यह भारत के पक्ष में रहा है। इस दौरान पाकिस्तान से भारत को किया जाने वाला निर्यात बहुत कम महज एक करोड़ 68 लाख डालर का रहा जबकि 2018-19 की पहली छमाही में यह 21 करोड़ 30 लाख डॉलर रहा था।

पाकिस्तान स्टेट बैंक के आंकड़ों के मुताबिक, 2019-20 की पहली छमाही में भारत से आयात में भी भारी कमी देखी गई। यह 2018-19 के 86 करोड़ 50 लाख डॉलर से घटकर 28 करोड़ 66 लाख डॉलर पर आ गया। इस तरह से भारत के साथ पाकिस्तान का व्यापार घाटा 26 करोड़ 98 लाख डॉलर रहा।

गौरतलब है कि पुलवामा में जवानों पर पाकिस्तान समर्थित आतंकवादियों के हमले के बाद भारत ने पाकिस्तानी वस्तुओं पर शुल्क को दो सौ गुना तक बढ़ा दिया था। इसके बाद बीती पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर से विशेष दर्जा वापस लेने के भारत सरकार के फैसले के बाद पाकिस्तान ने भारत के साथ व्यापार को रोकने का ऐलान किया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper