मंगोलिया को रिफाइनरी के लिए अतिरिक्त 23.6 करोड़ डॉलर कर्ज देगा भारत

नई दिल्ली: भारत ने मंगोलिया को तेल शोधक कारखाना (ऑयल रिफाइनरी) लगाने के लिए 23.6 करोड़ डॉलर का अतिरिक्त कर्ज देने की पेशकश की है। भारत मंगोलिया को यह राशि 15 लाख टन सालाना तेल शोधन की क्षमता वाले तेल शोधक कारखाना लगाने के लिए देगा। मंगलवार को जारी एक आधिकारिक बयान के अनुसार, केंद्रीय पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस एवं इस्पात मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने मंगोलिया में कहा कि भारत के सहयोग से लगाई जा रही 15 लाख टन की क्षमता वाली तेल शोधक कारखाना परियोजना दोनों देशों के बीच दोस्ती की एक जगमगाती मिसाल है।

प्रधान इस समय मंगोलिया के दौरे पर हैं। उन्होंने कहा, “भारत ने मंगोलिया को एक अरब डॉलर की राशि देने की अपनी प्रतिबद्धता के अतिरिक्त 23.6 करोड़ डॉलर का कर्ज प्रदान करने की पेशकश की है।” प्रधान ने मंगलवार को मंगोलिया में प्रस्तावित तेल शोधक कारखाना के लिए निर्मित बुनियादी ढांचा की सुविधाओं को चालू करने के मौके पर आयोजित समारोह में हिस्सा लिया।

मंगोलिया के प्रधानमंत्री उखनागीन खुरेल्सुख, छह कैबिनेट मंत्री और दोरनोगवी प्रांत के गवर्नर टी. एंकख्तुव्श ने भी कार्यक्रम में हिस्सा लिया। प्रधान ने इस अवसर पर कहा, “हमारे द्विपक्षीय व्यापार निवेश संबंध का नया अध्याय शुरू करने का मार्ग सुगम बनाने के लिए यह महत्वपूर्ण अवसर है। बुद्ध की साझी विरासत और लोकतंत्र के मूल्यों में समान रूप से आस्था रखने से हमारे दोनों देशों के बीच सौहार्दपूर्ण संबंध को मजबूती मिलती है।”

प्रधान मंगालिया के तीन दिवसीय दौरे पर हैं। उनके साथ अधिकारियों और कारोबारियों का एक प्रतिनिधिमंडल भी गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper