मगरमच्छ ने दबोचा मासूम का पैर, दोस्तों ने मुस्तैदी से बचाई जान

साबरकांठा: गुजरात के साबरकांठा जिले में एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक 14 साल के बच्चे पर एक मगरमच्छ ने हमला कर दिया, जिसमें बच्चा को काफी गंभीर चोटें आई हैं। लेकिन उक्त बच्चे के दोस्तों की मुस्तैदी के चलते बच्चे को मगरमच्छ के चंगुल से बचाया गया।

दरअसरल, मगरमच्छ ने बच्चे के पैर को जकड़ लिया, जिससे वह चिल्लाने लगा। गनीमत ये रही कि वहीं पास में खेल रहे उसके दोस्तों को उसके चिल्लाने कि आवाज आई। बच्चे की आवाज सुनकर उसके दोस्त तुंरत वहां पहुंचे और अपने दोस्त को सतर्कता से बचा लिया।

संदीप कमलेश परमार और उसके दोस्त साबरकांठा के गुणभखारी गांव में एक नदी में तैरने गए थे, तभी एक मगरमच्छ ने संदीप के पैर को अपने जबड़े में दबोच लिया। संदीप ने मदद के लिए चीखा तो उसके दोस्त उसकी ओर दौड़े। उसके दोस्तों ने देखा की मगरमच्छ ने संदीप को पकड़ रखा है। जिसके बाद उसके दोस्तों ने संदीप को बचाने की कोशिश की। इस दौरान दोस्तों ने मगरमच्छ पर पत्थर फेंकने शुरू किए। जिसके बाद मगरमच्छ ने संदीप का पैर छोड़ दिया और उसके दोस्त उसे नदी किनारे लाए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper