ममता को मिला मायावती का साथ, बोलीं- पीएम के दबाव में आयोग ने घटाया प्रचार का समय

लखनऊ: बसपा सुप्रीमो और पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने एक बार पीएम मोदी पर हमला बोला है। बंगाल विवाद को लेकर मीडिया को संबोधित करते हुए ममका के हक में उन्होंने कहा कि बंगाल में भाजपा के दबाव में चुनाव आयोग ने प्रचार रोका है। मायावती ने आगे सवाल उठाते हुए कहा कि चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी है, लेकिन आज रात 10 बजे से सिर्फ पीएम की दिन में दो रैलियां हैं। अगर उन्हें प्रतिबंध लगाना था तो आज सुबह से क्यों नहीं? यह अनुचित है, चुनाव आयोग दबाव में काम कर रहा है, बंगाल को बीजेपी ने अशांत किया है। ममता बनर्जी को टारगेट किया जा रहा है। बंगाल सरकार के बदनाम करने की कोशिश है।

वहीं दूसरी ओर कांग्रेस ने चुनाव आयोग पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष अमित शाह के इशारे पर काम करने का आरोप लगते हुए कहा है कि आयोग ने पश्चिम बंगाल में मोदी की दो रैलियों के बाद जिस तरह से चुनाव प्रचार पर निर्धारित समय से 24 घंटे पहले रोक लगाकर साबित कर दिया है कि यह स्वायत संस्थान अब अपनी विश्वसनीयता खो चुका है और आयोग की नियुक्ति प्रक्रिया पर नए सिरे से विचार करने की जरुरत है।

कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीपसिंह सुरजेवाला ने पार्टी मुख्यालय में आयोजित विशेष संवाददाता सम्मलेन में कहा कि आयोग के काम करने के तरीके से साफ़ हो गया है कि वह लोकतांत्रिक मूल्यों की रक्षा नहीं कर पा रहा है और सिर्फ मोदी तथा शाह के इशारे पर लाम कर रहा है।

उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में भाजपा अध्यक्ष के इशारे पर हिंसा हुई है और इसकी शिकायत आयोग से की गई है लेकिन आयोग ने शाह के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाय निर्धारित तिथि से 24 घंटे पहले चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी। आयोग ने जानबूझकर प्रचार खत्म होने का समय गुरूवार रात 10 बजे तय किया क्योंकि तब तक राज्य में मोदी की दो रैलियां पूरी हो जाएगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper