महाराष्ट्र में चाइल्ड पोर्न मामले में 133 केस दर्ज, 46 गिरफ्तार

मुंबई: देशभर में लागू लॉकडाउन के बीच महाराष्ट्र में चाइल्ड पोर्नोग्राफी के मामले बढ़े हैं. महाराष्ट्र पुलिस ने चाइल्ड पोर्नोग्राफी के ऑनलाइन सर्च और कंटेट के सर्कुलेशन से जुड़े 133 केस दर्ज किए हैं. साथ ही 46 लोगों को गिरफ्तार भी किया जा चुका है. गृह विभाग के अनुसार, इंडिया चाइल्ड प्रोटेक्शन फंड ने पाया कि पिछले एक महीने में ‘चाइल्ड पोर्न’, ‘सेक्सी चाइल्ड’, और ‘टीन सेक्स वीडियो’ जैसे शब्दों के ऑनलाइन सर्च में इजाफा हुआ है. मुंबई समेत देश के कई बड़ों शहरों में ऐसे मामले सामने आए हैं.

आपको बता दें कि यह संस्था नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी के बेटे भुवन रिभू ने इसी साल जनवरी में लॉन्च की थी. उधर गृह मंत्री देशमुख ने चाइल्ड पोर्न सर्च की हाई डिमांड को लेकर चिंता जाहिर की है. उन्होंने महाराष्ट्र साइबर सेल से इन्हें पकड़ने के लिए दोगुने प्रयास करने को कहा है. हालांकि महाराष्ट्र में चाइल्ड पोर्नोग्राफर की धरपकड़ के लिए जनवरी से ही ऑपरेशन ब्लैकफेस चलाया गया जिसकी निगरानी खुद गृह मंत्री अनिल देशमुख कर रहे थे. इस बीच पुलिस ने अभिभावकों से भी अपने बच्चों के इंटरनेट इस्तेमाल की निगरानी रखने को कहा है.

पुलिस ने ये भी कहा कि बच्चों के साथ इंटरनेट चलाएं ताकि वह आपसे से सही व्यवहार सीख सके. इसके अलावा कंप्यूटर घर में ऐसी जगह रखा जाए जहां से आप बच्चों पर नजर रख सकें. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी कहते हैं कि बच्चों के खिलाफ यौन अपराध को बढ़ने से रोकने के लिए प्रयास में बढ़ोत्तरी की गई है. उन्होंने कहा कि, ‘लॉकडाउन में चाइल्ड पोर्न कंटेंट देखने में इजाफा होना दिखाता है कि समाज में बड़ी संख्या में पीडेफाइल (बच्चों की तरफ यौन रूप से आर्कषित होने वाले), चाइल्ड रेपिस्ट और चाइल्ड पोर्नोग्राफी के लती कितने ज्यादा हैं.’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper