मां की हत्या कर पत्नी के साथ चैन की नींद सोया बेरोजगार बेटा, सुबह उठकर बोला….

ग्वालियर. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के ग्वालियर (Gwalior) में नौकरी के लिए टोकने से नाराज एक बेटे ने मां को ही मौत के घाट उतार दिया. आरोपी बेटे ने प्लानिंग के साथ मां की हत्या की थी, लेकिन पुलिस डॉग ने जांच के दौरान आरोपी को दबोच लिया, जिससे पुलिस ने हत्या की इस वारदात को महज 24 घंटे के अंदर सुलझा दिया. दरअसल, ग्वालियर के मेवाती मोहल्ला इलाके में रहने वाली तारा देवी उर्फ रेनू की बुधवार रात उसके घर में किसी ने बेरहमी से हत्या कर दी थी. रेणु की हत्या सोते वक्त की गई थी, जिसके चलते वह पलंग से उठ तक नहीं पाई. कातिल ने रेनू के सिर पर वजनी हथियार से वार किया था जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई. ऊपरी माले पर सो रहे रेनू के बेटे जितेंद्र ने सुबह नीचे आकर देखा तो मां की लाश पड़ी थी.

मामले की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची. कमरे के अंदर खून फैला था, लेकिन घर के दरवाजे के बाहर खून का एक कतरा नहीं था. दरवाजा अंदर से बंद था. लिहाजा पुलिस की थ्योरी किसी नजदीकी व्यक्ति द्वारा हत्या करने पर टिकी थी. पुलिस ने पूछताछ की तो जितेंद्र ने बताया कि वह अपनी पत्नी के साथ ऊपर सोया हुआ था. देर रात किसी तरह का कोई शोर शराबा नहीं सुनाई दिया. सुबह जब नीचे आया तो मां मृत हालत में पलंग पर पड़ी हुई थी. बाद में फॉरेंसिक टीम के साथ पुलिस डॉग मौके पर पहुंचा. उसने घटनास्थल का मुआयना करने के बाद मृतिका के बेटे जितेंद्र के हाथ को दबोच लिया. पुलिस ने जब जितेंद्र के हाथों की जांच की तो उसमें महिला के बालों के कतरे मिले.

पूछताछ में कबूला जुर्म
जब पुलिस ने जितेंद से पूछताछ की तो वो टूट गया. जितेंद्र ने बताया कि वो बेरोजगार था. मां बार-बार उसे काम करने के लिए टोकती थी. बुधवार रात भी मां ने टोका तो गुस्सा आ गया. फिर हथौड़े से वार कर दिए जिससे मां की मौके पर ही मौत हो गई. हत्या करने के बाद जितेंद्र ने बाथरूम में अपने कपड़े साफ किया. फिर ऊपर जाकर पत्नी के कमरे में सो गया. सुबह उठकर सबसे सामने कहानी बनाने लगा. फिलहाल, पुलिस ने आरोपी को हिरासत में ले लिया है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper