मां ने अपने जिगर के टुकड़े की क्यों जान ले ली, इसके पीछे की कहानी सुनकर आपका कलेजा कांप उठेगा

भोपाल: मध्य प्रदेश के खंडवा में एक दिल दहला देने वाला घटना सामने आई है, जहां एक मां ने अपनी ही 7 महीने की बच्ची को मार डाला है। आरोपी मां ने अपने जिगर के टुकड़े की क्यों जान ले ली, इसके पीछे की कहानी सुनकर आपका कलेजा कांप उठेगा। दरअसल, 7 माह की बच्ची पिछले कई दिनों से बीमार थी और बच्ची के इलाज कराने के लिए उसके पास पैसे नही थे। लिहाजा, परेशान होकर महिला ने बच्ची को मौत दे डाली।

जिले के अहमदपुर खैगांव में रहने वाली महिला का नाम माया डांगोरे है। मजदूरी कर जीवन-बसर करने वाले इस परिवार के घर में 6 साल पहले एक लड़की हुई थी। किसी तरह परिवार का भरण-पोषण चल रहा था। इस दौरान 7 महीने पहले माया को दूसरी बेटी हुई थी।

माया को जब दूसरी बेटी पैदा हुई थी तभी से पति-पत्नी के बीच लगातार झगड़े होते थे। पति अकसर माया के साथ मारपीट करता था. लगभग 15 दिन पहले भी पति ने महिला के साथ मारपीट की। उसने माया और अपनी बड़ी बेटी की पिटाई की थी और घर छोड़कर चला गया था। इसके बाद माया पर अपनी दोनों बेटियों की देखरेख के साथ परिवार चलाने की मजबूरी आ गई।

बच्ची की जान लेने के बाद आरोपी महिला ने दोपहर से शाम तक बच्ची के शव को अपने गोद में बिठाकर रखा। बाद में घर से बदबू उठने पर ग्रामीणों ने महिला के रिश्तेदार को और पुलिस को इसकी सूचना दी। बाद में मोघट पुलिस गांव पहुंची और वो बच्ची को लेकर अस्पताल गई, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper