मालगाड़ी के 23 डिब्बे बेपटरी,कई ट्रेनों का परिचालन रद, कुछ का मार्ग बदला

रांची। झारखंड की राजधानी रांची से सटे राई-खलारी स्टेशन के बीच मालगाड़ी के 23 बोगी बेपटरी हो गये, जिसके कारण इस मार्ग पर चलने वाली कई पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन आज रद्द कर दिया गया, वहीं कुछ एक्सप्रेस और सुपर फास्ट ट्रेनों को मार्ग परिवर्त्तित कर चलाया जा रहा है।

घटना के संबंध में मिली जानकारी धनबाद रेल मंडल के बरकाकाना-गढ़वा रेलखंड के राई और खलारी स्टेशन के बीच क्षतिग्रस्त ट्रैक पर सोमवार रात दो बजे मालगाड़ी के 23डिब्बे पटरी से उतर गये। ऐसी आशंका व्यक्त की जा रही है कि नक्सलियों ने विस्फोट कर रेल पटरी को क्षतिग्रस्त कर दिया था, जिस कारण यह हादसा हुआ। इस हादसे में मालगाड़ी के दो ड्राइवर और दो गार्ड को गंभीर चोट भी आयी है, उन्हें इलाज के लिए स्थानीय अस्पताल में भर्त्ती कराया गया है। बताया गया है कि कोयला लदे कुछ डिब्बे ट्रैक पर जा गिरे, जिस कारण बगल से गुजर रह रही दूसरी मालगाड़ी भी चपेट में आ गयी, लेकिन दूसरी ट्रेन को किसी तरह का नुकसान नहीं हुआ।

रेलवे की ओर से ट्रैक की मरम्मति का काम युद्धस्तर पर शुरू कर दिया गया है, हालांकि धनबाद रेल मंडल की ओर से कहा गया है कि इस ट्रैक को ठीक करने में करीब 48 घंटे का समय लगेगा। इस हादसे की वजह से दिल्ली से रांची आने वाली गरीब रथ और जम्मूतवी एक्सप्रेस को टोरी की तरफ से रांची लाया जाएगा। तीन पैसेंजर ट्रेन के परिचालन को संक्षिप्त कर दिया गया है, जिसमें ट्रेन संख्या 53343, 53347 व 53344 शामिल है, वहीं ट्रेन संख्या 53525,53357 और 53348 को रद्द कर दिया गया है।

इसके अलावा अजमेर-संतराक्षी, जम्मूतवी-टाटा को टोरी व लोहरदगा के रास्ते चलाया जा रहा है। साथ ही जबलपुर हावड़ा को गढ़वा रोड-गया-धनबाद की ओर और हावड़ा-जबलपुर एक्सप्रेस को धनबाद-गया-गढ़वा रोड के रास्ते चलाया जा रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper