मिसाल बनी महिला भिखारी, शहीदों के परिवार को दिए साढ़े छह लाख

लखनऊ: अजमेर के बजरंग गढ़ चौराहे पर माता मंदिर के पास बैठकर कई सालों से भीख मांग कर गुजारा करने वाली महिला भिखारी देवकी शर्मा अपनी मौत से पहले ऐसा काम कर गई जिसे मिसाल के तौर पर लिया जाएगा.

देवकी शर्मा का छह माह पहले इनका देहांत हो चुका है. राजस्थान की इस महिला भिखारी की आखिरी इच्छा के तौर पर उसके जमा किये हुए करीब 6 लाख 61 हजार 600 रुपये शहीद परिवारों को दिए गए हैं. रोजाना भीख के एक-एक पैसे को जोड़कर देवकी शर्मा मंदिर कमेटी के सदस्यों को दिया करती थी जिसे कमेटी के सदस्यों बुजुर्ग महिला के बैंक अकाउंट में जमा कर देते थे . महिला की अंतिम इच्छा थी कि इन रुपयों का इस्तेमाल किसी अच्छे काम में किया जाये .

मंदिर कमेटी के सचिव संजीव भार्गव ने बताया कि देवकी शर्मा की अंतिम इच्छा के अनुरूप यह रुपए कमेटी किसी और काम में देती,लेकिन पुलवामा में शहीद हुए सैनिकों के परिवारों की मदद से बड़ा दूसरा कोई पुण्य का काम नहीं है. ऐसे में मंदिर कमेटी के सदस्यों ने यह रकम शहीद परिवारों तक पहुंचाने के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा करवाया है. उन्होंने बताया कि रुपयों का ड्राफ्ट बनाकर जिला कलेक्टर को सौंपा गया है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper