मुख्य मार्गों से जोड़े जाएंगे यूपी के सभी गांव : मौर्य

Published: 14/09/2018 6:52 PM

लखनऊ ब्यूरो। प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने शुक्रवार को यहां बताया कि सूबे की सभी ग्राम सभाओं को पक्के सम्पर्क मार्गों से जोड़ा जायेगा। उन्होंने बताया कि 250 से अधिक आबादी वाले 1891 राजस्व ग्रामों को सम्पर्क मार्गों से जोडऩे के लिए कार्य योजना भी तैयार कर ली गयी है।
मौर्य ने बताया कि गरीबों एवं किसानों के उत्थान हेतु ‘सबका साथ-सबका-विकास ग्राम सड़क योजना’ के तहत लोक निर्माण विभाग ने 2011 की जनगणना के अनुसार 250 से अधिक की आबादी वाले अनजुड़े 155 ग्रामों को पक्के सम्पर्क मार्ग से जोडऩे हेतु 1114 करोड़ रुपये की स्वीकृतियों निर्गत कर निर्माण कार्य प्रारम्भ कर दिया है।

उप मुख्यमंत्री ने बताया कि 250 से अधिक की आबादी वाले अवशेष 1891 राजस्व ग्रामों को सम्पर्क मार्गों से जोडऩे की कार्य योजना भी तैयार कर ली गयी है। इस पर 1315 करोड़ रुपये व्यय होने का अनुमान है। मौर्य ने कहा कि 2011 की जनगणना के अनुसार 500 से अधिक की आबादी के राजस्व ग्राम तथा अन्र्तदेशीय तथा अंतर्राज्यीय सीमा से 05 किमी.के दायरे में आने वाले सभी राजस्व ग्रामों को पक्के मार्ग से जोडऩे की कार्यवाही प्रगति पर है।
उप मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रतिभा, शिक्षा एवं विकास का समावेश करते हुए प्रदेश में पहली बार छात्रों को सम्मानित एवं प्रोत्साहित करने के लिए हाई स्कूल एवं इंटरमीडिएट के मेधावी छात्रों के निवास स्थल के मार्ग का निर्माण एवं मरम्मत कर ‘डा0 एपीजे अब्दुल कलाम गौरव पथ’ के रुप में विकसित किया जा रहा है। अब तक वर्ष 2017 के 24 मेधावी छात्रों के निवास स्थल का निर्माण एवं मरम्मत का कार्य 7.00 करोड़ रुपये की धनराशि से पूर्ण किया जा चुका है तथा वर्ष 2018 के 89 मेधावी छात्रों के निवास स्थलों के मार्गों के निर्माण हेतु 23.17 करोड़ की स्वीकृतियां जारी हो चुकी हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश में गुणवत्तायुक्त सड़कों का जाल बिछाने के लिए कृत संकल्प है। इसीलिए प्रदेश के सभी 316 तहसील मुख्यालयों को दो लेन मार्ग से जोडऩे की कार्यवाही की गई है अवशेष 26 तहसीलों को दो लेन मार्ग से जोडऩे हेतु अब तक 13 तहसील मुख्यालयों के लिए 375.97 करोड़ रुपये निर्गत कर दिए गए हैं तथा कार्य भी प्रारम्भ हो चुका है।

इसी प्रकार 817 विकासखण्डों में से 152 विकासखण्ड जो दो लेन मार्ग से नहीं जुड़े थे उन्हें भी जोडऩे के लिए 2153.31 करोड़ रुपये की आवश्यकता के सापेक्ष 113.70 करोड़ रुपये निर्गत कर दिए गये हैं। शेष स्वीकृतियां शीघ्र जारी की जाएगी। मौर्य ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश के 847 मार्गों का चार लेन चौड़ीकरण व सुदृढ़ीकरण एवं बाई पास निमाज़्ण हेतु 31581 करोड़ रुपये की लागत से 12374 किमी.मार्गों का चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण का कार्य किया गया है। इनमें से 1036 किमी.लम्बाई का कत्तीय वर्ष 2018-19 में पूर्ण किया गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
-----------------------------------------------------------------------------------
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

E-Paper