मुन्ना बजरंगी की पत्नी ने हाईकोर्ट में लगाई न्याय की गुहार, कहा- नहीं चाहिए हमें मुआवजा

बागपत: जिला जेल में माफिया मुन्ना बजरंगी की हत्या के मामले में उसकी पत्नी सीमा ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में न्याय की गुहार लगाई है। उनके वकील का कहना है कि सीमा को मुआवजा नहीं, बल्कि उन्हें न्याय चाहिए। आरोप है कि मुन्ना बजरंगी की हत्या की साजिश में बागपत के अधिकारी भी शामिल हैं। उन्होंने प्रशासन के इशारे पर काम किया है।

मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद मची सियासी हलचल से मीडिया में आयी हत्या के बाद मुआवजे की मांग को मुन्ना बजरंगी के परिजनों ने नकार दिया है। बजरंगी पक्ष के वकील विकास श्रीवास्तव का कहना है कि उनके द्वारा कोई भी मुआवजे की मांग शासन से नहीं की गयी है, लेकिन मीडिया में मुआवजे की मांग बतायी जा रही है। इसका हम खंडन करते हैं।

श्रीवास्तव ने कहा है कि हमें मुआवजा नहीं न्याय चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया है कि मुन्ना बजरंगी की हत्या पूर्व सांसद धनंजय सिंह के इशारे पर की गयी है। क्योंकि धनंजय ने ही सुनील राठी की माता राजबाला को बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ाया था। धनंजय सिंह और सुनील राठी के बीच अच्छी दोस्ती है।

उन्हीं दोनों ने मिलकर यह योजना बनायी, जिसमें जिला जेलर उदय प्रताप, डिप्टी जेलर शिवाजी यादव शामिल थे। उन्होंने बागपत एसपी पर भी आरोप लगाते हुए कहा है कि इन तीनों अधिकारियों के खिलाफ 120 का मुकदमा कायम होना चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper