मुफ्त राशन देने में योगी सरकार नंबर वन, 1 करोड़ लोगों में बांटा 68,000 मीट्रिक टन अनाज

लखनऊ : लॉकडाउन के दौरान योगी सरकार ने गरीबों को मुफ्त राशन देने में रिकॉर्ड कायम करते हुए अब तक एक लाख मीट्रिक टन राशन बांटा गया है. इसमें एक करोड़ लोगों के बीच मुफ्त में 68,000 मीट्रिक टन राशन दिया गया है.

करीब 18 लाख राशनकार्ड धारकों को राशन मिल चुका है. 33 लाख परिवारों के एक करोड़ 60 लाख लोगों में अनाज बांटा गया है. कार्ड धारकों को 30 हजार 365 टन गेंहू और 21 हजार 715 टन चावल का वितरण किया गया है. साथ ही 301298 मनरेगा कार्ड धारकों को भी खाद्यान्न वितरण हुआ है. मुख्यमंत्री ने राशन वितरण की व्यवस्था में सोशल डिस्टेंसिंग को फॉलो करने के भी निर्देश दिए हैं. सीएम ने मंडियों में भी गेहूं खरीद को लेकर तैयारी का आदेश दिया है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने के आदेश दिए हैं. बुधवार को हुई बैठक में सभी जिलों के बॉर्डर पर जीरो मूवमेंट रखने के लिए कहा गया है. साथ ही उन्नाव बॉर्डर पर आए कुछ लोगों को क्वारंटाइन करने के लिए कहा गया है. फायर ब्रिगेड की गाड़ियों से भी सेनेटाइजेशन और फॉगिंग की व्यवस्था की जा रही है, कल से इसकी प्रक्रिया शुरू होगी. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर 6594 मामले दर्ज हुए हैं. साथ ही कालाबाजारी में 58 एफआईआर सहित 94 लोगों के विरुद्ध कार्रवाई हुई है. यूपी में 5261 चेक पोस्ट बनाये गए हैं. अब तक 3 करोड़ 43 लाख की वसूली की जा चुकी है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper