मुस्लिमों में 50 पत्नियां, 1050 बच्चे होना ‘पशुवादी प्रवृत्ति’ : भाजपा विधायक

लखनऊ: विवादास्पद बयानों के लिए चर्चा में रहने वाले उत्तर प्रदेश के भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह ने “जिन मुसलमानों की 50 पत्नियां और 1,050 बच्चे हैं, वे ‘पशुवादी प्रवृत्ति’ के हैं” कहकर एक बार फिर एक विवाद पैदा कर दिया है। एक वीडियो क्लिप में विधायक को यह कहते हुए सुना जा सकता है, “आपको पता है मुस्लिम धर्म में लोग 50 पत्नियां रख सकते हैं और 1,050 बच्चे पैदा कर सकते हैं। यह कोई परंपरा नहीं है यह पशुवादी प्रवृत्ति है।”

सिंह ने यह भी कहा कि वर्ष 2024 में जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) अपने 100 साल पूरे कर लेगा, तब भारत को ‘हिंदू राष्ट्र’ घोषित किया जाएगा। उन्होंने पश्चिम बंगाल को ‘लंका’ बताते हुए कहा, “आधा पश्चिम बंगाल तबाह हो चुका है और बाकी को विधानसभा चुनाव के बाद कर दिया जाएगा।”

भाजपा विधायक सिंह इससे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को ‘शूर्पणखा’ कह चुके हैं और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की प्रमुख मायावती के बारे में कह चुके हैं कि वह ब्यूटी ट्रीटमेंट पर पैसे खर्च करती हैं। ऐसे आपत्तिजनक बयानों के लिए भाजपा ने अपने विधायक पर कभी कोई कार्रवाई नहीं की है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper