पथरी है तो परेशान न हों, डॉक्टर से लें सलाह

लखनऊ ट्रिब्यून ब्यूरो: आजकल पथरी का रोग लोगों में आम समस्या बनती जा रही है। जो अक्सर गलत खान पान की वजह से होता है। जरुरत से कम पानी पीने से भी गुर्दे की पथरी का निर्माण होता है। हम बात करते हैं गुर्दे की पथरी के बारे में। गुर्दे की पथरी मूत्रतंत्र का एक रोग है जिसमें गुर्दे के अन्दर छोटे-छोटे पत्थर जैसी कठोर वस्तुएं बन जाती हैं। आमतौर पर यह ये पथरियाँ मूत्र के रास्ते शरीर से बाहर निकाल दी जाती हैं।

बहुत से लोगों में पथरियाँ बनती हैं और बिना किसी तकलीफ के बाहर निकल जाती हैं, वहीं अगर यही पथरी बड़ी हो जाएँ तो मूत्रवाहिनी में अवरोध उत्पन्न कर देती हैं। इस स्थिति में मूत्रांगो के आसपास असहनीय पीड़ा होती है। यह बीमारी आमतौर से 30 से 60 वर्ष के उम्र के लोगों में पाई जाती है और स्त्रियों की अपेक्षा पुरूषों में चार गुना अधिक पाई जाती है। मधुमेह रोगियों में को गुर्दे की पथरी होने की ज्यादा सम्भावना रहती है।

सर्जरी में सतत चिकित्सा शिक्षा कार्यक्रम में ‘यूरोलिथियासिस’ के बारे में जानकारी देते हुए डाॅ. विनोद जैन ने बताया है कि मूत्र तंत्र में पथरी के इलाज की विभिन्न विधायें हैं। मूत्र तंत्र की पथरी का किस विधा द्वारा इलाज किया जाये – इसका निर्धारण, पथरी के आकार, पथरी के प्रकार एवं उसकी स्थिति पर निर्भर करती है।

उन्होंने यह भी बताया है कि 5 मिमी से कम की पथरी 75 प्रतिशत लोगों में अपने आप निकल जाती है तथा 10 मिमी की भी 30 प्रतिशत पथरियां अपने आप निकल जाती हैं। यदि कोई और जटिलता नहीं है तो यूरेटर की 10 मिमी से कम आकार की पथरी को सर्वप्रथम दवा द्वारा निकलने का अवसर दिया जाता है। दवा द्वारा पथरी निकालने के लिये 6 हफ्ते से ज्यादा इन्तजार नहीं करना चाहिए अन्यथा गुर्दे पर विपरीत असर पड़ता है।

10-20 मिमी के आकार की पथरी के लिये लिथोट्रिप्सी विधि उपयुक्त होती है तथा 20 मिमी से अधिक आकार के लिये पीसीएनएल विधि का प्रयोग किया जाता हैं। मोटे व्यक्तियों में, बड़ी पथरियों में तथा कड़ी पथरियों में लिथोट्रिप्सी अधिक कारगर नहीं होती है। यदि मूत्र मार्ग में किसी प्रकार की जटिलता है अथवा पथरी जटिल प्रकार की है तो सामान्य सर्जन द्वारा उसका इलाज न करके उसे कुशल चिकित्सक के पास संदर्भित करना सुरक्षित है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper