मैंने पार्टी को धमकी नहीं दी, टिकट न भी मिला तो प्रचार करूंगा: साक्षी महाराज

उन्नाव: उत्तर प्रदेश में उन्नाव सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के फायरब्रांड सांसद स्वामी सच्चिदानंद हरि उर्फ साक्षी महाराज ने यहां कहा, उन्होंने टिकट न मिलने पर पार्टी को नतीजा भुगतने की धमकी नहीं दी है। पार्टी उनके स्थान पर किसी और को उन्नाव सीट से टिकट देगी तो वह उसके लिये प्रचार करेंगे। साक्षी महाराज ने बुधवार को यहां पत्रकारों से कहा कि पार्टी के प्रदेश और केंद्रीय नेतृत्व ने सभी सांसदों के साथ उन्हें भी एक फॉर्म भेजा था। उसमें उनके संसदीय क्षेत्र का विवरण मांगा गया था। उन्होंने कहा कि इस फॉर्म में जगह कम थी। इस वजह से मैंने प्रदेश अध्यक्ष महेंद्रनाथ पांडेय को अलग से पत्र लिखकर जानकारी दी थी।

भाजपा सांसद ने इससे साफ इनकार किया कि उन्होंने टिकट न मिलने पर उन्नाव संसदीय सीट पर पार्टी को नतीजा भुगतने की धमकी दी है। साक्षी महाराज ने कहा “मैंने पार्टी के नियमों या आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन नहीं किया बल्कि सलाह दी है।” उन्होंने उम्मीद जतायी कि इस बार भी उन्हें टिकट मिलेगा लेकिन साथ ही कहा कि यदि किसी और को पार्टी टिकट देगी तो उसके लिये वह प्रचार करेंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा ने उन्हें पांच बार सांसद बनाया है और वह इसके लिये पार्टी के आभारी हैं।

गौरतलब है कि साक्षी महाराज का भाजपा प्रदेश अध्यक्ष को सात मार्च को लिखा एक पत्र मंगलवार को सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। इस स्वहस्ताक्षरित पत्र में साक्षी महाराज ने उन्नाव संसदीय सीट पर जातीय समीकरणों का हवाला दिया था और कहा था कि यहां पिछड़े वर्ग की नुमाइंदगी करने वाले पार्टी के वह इकलौते प्रतिनिधि हैं जबकि संसदीय क्षेत्र में लोधी, कहार, निषाद, कश्यप और मल्लाह समेत अन्य पिछड़ा वर्ग के वोटरों की तादाद करीब दस लाख है। पत्र में इस बार भी टिकट का आग्रह करने के साथ ही यह लिखा गया था कि यदि उन्हें टिकट न मिला तो पार्टी को लोकसभा चुनाव में उन्नाव सीट पर नतीजा भुगतना पड़ सकता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper