मैच फिक्सिंग के मुख्य आरोपी संजीव चावला के प्रत्यर्पण का रास्ता साफ, 28 दिन में लाया जाएगा भारत

लंदन: बुकी संजीव चावला के प्रत्यर्पण पर आज लंदन की अदालत ने फैसला सुना दिया है। वेस्टमिनिस्टर कोर्ट ने संजीव चावला के प्रत्यर्पण को मंजूरी दे दी है। वर्ष 2000 में दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान हैंसी क्रोन्ये संबंधी मैच फिक्सिंग प्रकरण में चावला मुख्य आरोपी हैं।

इसके साथ ही अदालत ने अपने फैसले में कहा कि हम अपील करने की अनुमति से इनकार करेंगे और हाई कोर्ट के पिछले फैसले को भी खोलने की अनुमति नहीं देंगे। सुनवाई के दौरान संजीव चावला कोर्ट में मौजूद था। सुनवाई के दौरान जस्टिस डेविड बीन और जस्टिस क्लाइव लुइस ने कहा कि संजीव चावला की याचिका को अस्वीकार किया जाता है।

भारत-इंग्लैंड प्रत्यर्पण संधि के तहत उसे 28 दिनों के भीतर भारत भेजा जाए। सरकार की तरफ से पेश हुए वकील मार्क समर ने कहा कि चावला के पास इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने का विकल्प ना के बराबर है।

कोर्ट में पेश किए गए दस्तावेज के मुताबिक, चावला दिल्ली का एक बिजनसमैन था जो 1996 में बिजनस वीजा पर लंदन पहुंचा। 2000 में उसका भारतीय पासपोर्ट रद्द कर दिया गया। 2005 में उसे यूके का पासपोर्ट मिल गया और वह अब ब्रिटिश नागरिक है। उसे फरवरी 2000 में साउथ अफ्रीका के पूर्व कप्तान हैंसी क्रोनिए के सामने भी पेश किया गया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper