मै स्पॉट-फिक्सिंग में शामिल नहीं: श्रीसंत

नई दिल्ली: भारत के पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी शांताकुमारन श्रीसंत ने बीसीसीआई द्वारा उनके ऊपर लगाए गए आजीवन प्रतिबन्ध को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है. उन्होंने अपने ऊपर लगाए गए फिक्सिंग के आरोपों को खारिज करते हुए टेलीफोन पर हुई बातचीत की रिकॉर्डिग का हवाला देते हुए कहा कि वह 2013 में आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग में शामिल नहीं होने के लिए जिद पर अड़े थे.

श्रीसंत के मुताबिक, रिकॉर्डिग में उन्होंने कहा है, “मैं जिद्दी हूं और कुछ भी नहीं होगा.” श्रीसंत ने 30 जनवरी को पिछली सुनवाई में अदालत को बताया था कि सट्टेबाजों ने उन्हें स्पॉट फिक्सिंग में घसीटने की कोशिश की थी, लेकिन वह इसमें फंसे नहीं थे. श्रीसंत का पक्ष रख रहे वरिष्ठ वकील सलमान खुार्शीद ने पीठ को बताया कि प्राथमिक जांच की रिपोर्ट उन्हें नहीं दी गई. इसके जवाब में अदालत ने कहा कि उनके पास अन्य सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट पहुंची थी.

दो वृद्ध महिलाओं को डायन बताकर मार डाला

खुर्शीद ने कहा कि उनके पास रिपोर्ट थी, लेकिन बीसीसीआई ने उन्हें यह नहीं बताया गया था कि रिपोर्ट का कौन-सा हिस्सा उनके खिलाफ था. अदालत को बताया गया कि किसी भी स्तर पर बीसीसीआई ने उनसे यह नहीं पूछा था कि कथित सामग्री के बारे में उनका क्या कहना है, जिसमें उनके खिलाफ कथित तौर पर 10 लाख रुपये की पेशकश शामिल है. इस पर श्रीसंत ने कहा, “मेरे ऊपर गंभीर आरोप लगाए गए थे. मुझे सबसे गंभीर अपराध का दोषी ठहराया गया, लेकिन सबूत का स्तर कम से कम गंभीर अपराध वाला है.”

श्रीसंत पर बीसीसीआई ने आजीवन प्रतिबंध लगाया था और केरल हाईकोर्ट ने भी बीसीसीआई के फैसले को सही करार दिया था. श्रीसंत ने कुछ वक्त पहले रिएलिटी शो ‘बिग बॉस 12’ में भी अपने ऊपर लगे फिक्सिंग के आरोपों को खारिज किया था.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...

लखनऊ ट्रिब्यून

Vineet Kumar Verma

E-Paper