मोदी के दौरे के विरोध में सपा और कांग्रेस ने किया प्रदर्शन

कानपुर: नागरिक संशोधन अधिनियम को काला कानून बताते हुये समाजवादी पार्टी (सपा) कार्यकर्ताओं ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कानपुर दौरे का विरोध किया वहीं कांग्रेस ने केन्द्र सरकार पर नमामि गंगे परियोजना के नाम पर जनता को बरगलाने का आरोप लगाया और प्रदर्शन किया। सपा कार्यकर्ता सुबह सबेरे से ही चकेरी हवाई अड्डे समेत शहर के अलग अलग स्थानाे पर जम गये थे। मोदी के आगमन की सूचना मिलते ही सपा कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी शुरू कर दी। प्रधानमंत्री का स्वागत करने आयी सूबे की मंत्री नीलिमा कटियार और सपा विधायक अमिताभ बाजपेई के बीच तीखी नोकझाेंक भी हुयी। इस बीच सपा और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच हाथापाई शुरू हो गयी हालांकि पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने हस्तक्षेप करते हुये मामला शांत कर दिया।

सपा कार्यकर्ता कैब को काला कानून बताते हुये इसे लोकतंत्र की हत्या बता रहे थे। कार्यकर्ता हाथों में बैनर और पोस्टर लिये हुये थे और ‘मोदी गो बैक’ के नारे लगा रहे थे। पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे सपा कार्यकर्ताओं को हिरासत में लेकर पुलिस लाइन भेज दिया। बाजपेई ने कहा कि नागरिकता संशोधन अधिनियम काला कानून है जिससे धर्म विशेष के लोगों में भय का माहौल है और देश अशांति तथा अराजकता की ओर बढ़ रहा है। केन्द्र सरकार ने बेरोजगारी, महंगाई, गिरती अर्थव्यवस्था जैसी मूलभूत समस्याओं से मुंह चुराने के लिये इस बिल का सहारा लिया है।

उन्होने कहा कि नमामि गंगे मिशन की नाकामी के कारण टेनरी मजदूर बदहाल जीवन जीने को मजबूर है। शहर में गंगा की हालत बद से बदतर हो रही है। गंगा सफाई के नाम पर भाजपा सरकार अरबों रुपये हजम कर गयी है। स्मार्ट सिटी कानपुर प्रदूषण में नंबर वन है। यहां गंदगी सब तरफ पसरी हुयी है। आवारा जानवरों के भय से लोगों का सडकों पर निकलना दूभर है। उन्होने पांच सूत्रीय ज्ञापन भी जिला प्रशासन को सौंपा। उधर कांग्रेस नेता विकास अवस्थी के नेतृत्व में कांग्रेसियों ने बर्रा के शास्त्री चौके पर प्रदर्शन किया। उन्होने कहा कि गंगा सफाई के नाम पर भाजपा सरकार जनता को बरगला रही है। गंगा की हालत बेहद खराब है। शहर में हवा और पानी बेहद प्रदूषित है और सडके खस्ता हाल है। गंगा सफाई के नाम पर करोडो रूपये का गोलमाल किया गया है।

गौरतलब है कि मोदी आज यहां राष्ट्रीय गंगा परिषद की पहली बैठक में शामिल हाेने आये हैं। वह गंगा सफाई की समीक्षा करने के साथ ही गंगा पर नौकायन करेंगे और अटल घाट का अवलोकन करेंगे। बैठक में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ,बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी,उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत के अलावा कई केन्द्रीय मंत्री और नमामि गंगे परियोजना से जुडे आला अधिकारी मौजूद थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper