मोदी दशहरा उत्सव में शामिल हुए, जल, ऊर्जा संरक्षण का किया आह्वान

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को दशहरा के अवसर पर ऊर्जा और जल संरक्षण का आह्वान किया और लोगों को इस बाबत संकल्प लेने के लिए कहा। मोदी ने राष्ट्रीय राजधानी के द्वारका में एक दशहरा समारोह में लोगों को संबोधित करते हुए कहा, “विजयादशमी पर, जब हम महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मना रहे हैं, मैं अपने सभी नागरिकों से आग्रह करता हूं कि चलिए ऊर्जा, जल और देश के संसाधनों को संरक्षित करने और खाने को बर्बाद नहीं करने का संकल्प लेते हैं।”

मोदी यहां रावण दहण कार्यक्रम में शामिल होने आए थे। रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ के दौरान महिला सशक्तिकरण के संबंध में अपने संबोधन को याद करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, “इस दिवाली, चलिए हम नारी शक्ति की उपलब्धियों का जश्न मनाते हैं। यह हमारी लक्ष्मी पूजा हो सकती है।” उन्होंने यह भी कहा कि भारत शक्ति और साधना की भूमि है। बीतों नौ दिनों में हमने मां दुर्गा की पूजा की। इस भावना को आगे बढ़ाते हुए, चलिए हम महिलाओं को सशक्त करने और उन्हें सम्मान देने की दिशा में हमेशा काम करते हैं।

मोदी ने आज मनाए जा रहे भारतीय वायु सेना दिवस के उपलक्ष्य में वायु सेना की प्रशंसा की और कहा कि देश को इसकी सेवा पर गर्व है। उन्होंने विजयादशमी पर लोगों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि भारत त्योहारों का देश है और इसकी जीवंत संस्कृति की वजह से यहां भारत के किसी न किसी भाग में कोई न कोई त्योहर होते रहते हैं। हर त्योहार हमारे समाज को एकजुट करता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper