मोहन भागवत बोले- RSS का अगला एजेंडा दो बच्चों का कानून

नई दिल्ली: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन राव भागवत चार दिन के प्रवास पर मुरादाबाद में हैं। उन्होंने जिज्ञासा सत्र में स्वयंसेवकों को संबोधित किया जिसमें उन्होंने स्वयंसेवको द्वारा सवाल किये जाने पर बताया कि संघ की आगामी योजना दो बच्चों का कानून है।

इस दौरान मोहन भागवत ने कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट के बनते ही संघ अपने आपको इससे अलग कर लेगा। साथ ही संघ प्रमुख ने कहा कि काशी और मथुरा RSS के एजेंडे में नहीं है। उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) देशहित में है, इससे पीछे हटने की जरूरत नहीं है। संघ के जिज्ञासा और समाधान सत्र में एक स्वयंसेवक ने पूछा कि क्या अयोध्या के बाद अब संघ काशी और मथुरा का मुद्दा उठाएगा तो संघ प्रमुख ने साफ तौर पर इनकार कर दिया।

नागरिकता संशोधन कानून पर पूछे गए सवाल पर संघ प्रमुख ने कहा क सीएए पर पीछे हटने की कोई जरूरत नहीं है और न ही विरोध से चिंतित होने की जरूरत है क्योंकि सभी जानते हैं कि यह कानून देशहित में है। संघ प्रमुख ने कहा कि सीएए को लेकर देश में कुछ लोग भ्रम की स्थिति पैदा कर रहे हैं, हम सभी की जिम्मेदारी है कि इस भ्रम को दूर किया जाए। उन्होंने स्वयंसेवकों से अपील करते हुए कहा कि सेमिनार, गोष्ठी और बैठकों के जरिए नागरिकता संशोधन कानून पर लोगों के भ्रम दूर करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper