मौनी अमावस्या के स्नान पर लखनऊ से हर आधे घंटे पर चलेंगी रोडवेज की बसें

लखनऊ ब्यूरो। उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (रोडवेज) मौनी अमावस्या पर प्रयागराज के कुम्भ मेला जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए लखनऊ से हर आधे घंटे पर बसें चलाएगा। मौनी अमावस्या चार फरवरी को है।

रोडवेज के प्रवक्ता ने शुक्रवार को बताया कि गंगा यमुना एवं सरस्वती के संगम स्थल पर आयोजित हो रहे कुम्भ मेला में श्रद्धालुओं और यात्रियों को जाने के लिए लखनऊ के आलमबाग, चारबाग और कैसरबाग बस स्टेशन से हर 30 मिनट के अन्तराल पर बस सेवा उपलब्ध रहेगी। इसके साथ ही प्रदेश के विभिन्न जिलों से सुगम, सस्ती एवं आरामदायक यात्रा के लिए भी रोडवेज की बसें उपलब्ध रहेंगी।

उन्होंने बताया कि लखनऊ से चलने वाली रोडवेज की बसें प्रयागराज के देव प्रयाग (रूदापुर) अस्थाई बस स्टेशन एवं बेला कछार, पार्किंग स्थल तक ही जायेंगी। वहां से श्रद्धालुओं को संगम स्थल के निकट तक जाने के लिए सिटी बसों और शटल बसों की सुविधा उपलब्ध रहेगी।

प्रवक्ता ने बताया कि शटल बसें शहर के चारों तरफ बने अस्थाई बस स्टेशनों से संगम स्थल के निकट पहुंचने के लिए संचालित की जा रही हैं। जिससे शहर में विभिन्न पार्किंग स्थल से मेला क्षेत्र तथा शहर के अन्दर आने वाले समस्त तीर्थ यात्रियों विशेष कर महिला एवं वृद्ध तीर्थ यात्रियों को विशेष सुविधा प्रदान की जा रही है।

उन्होंने बताया कि श्रद्धालु बस सेवा के सम्बन्ध में कोई जानकारी लेने के लिए प्रयागराज के क्षेत्रीय कन्ट्रोल रूम नम्बर-0532-2261208 व मेलाधिकारी के मोबाइल 9415049624 पर सम्पर्क कर सकते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper