मौनी अमावस्या: चार लाख वाहनों की पार्किंग का इंतजाम

प्रयागराज ब्यूरो। मौनी अमावस्या के मद्देनजर कुम्भ मेला प्रशासन ने लगभग चार लाख वाहनों की पार्किंग की व्यवस्था की है। भीड़ की स्थिति को देखते हुए पूर्व निर्धारित पार्किंग स्थलों का प्रयोग किया जाएगा।

एसएसपी के.पी. सिंह ने बताया कि कुम्भ मेला क्षेत्र में 3 फरवरी की रात्रि से ही ई-रिक्शा का संचालन बन्द हो जाएगा। सड़क पर भीड़ का आंकलन करके आवश्यकता पड़ने पर 03 फरवरी की शाम से ही ई-रिक्शा को मेला क्षेत्र में रोक दिया जायेगा।

जौनपुर की तरफ से आने वाले श्रद्धालुओं को उत्तरी झॅूसी अन्तर्गत सेक्टर 5, 13, 14 व 15 के स्नान घाटों पर स्नान करने की सुविधा होगी। वाराणसी की तरफ से आने वाले श्रद्धालुओं के वाहनों पर 2, 3 व 4 फरवरी 2019 को जौनपुर दिशा की तरह ही प्रतिबन्ध रहेगा तथा वाराणसी की ओर से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए दक्षिणी झूॅसी के सेक्टर 16 व 17 में बने स्नान घाटों पर स्नान करने की सुविधा होगी।

फाफामऊ की तरफ, लखनऊ अथवा प्रतापगढ़ की ओर से आने वाले वाहन 2 फरवरी की शाम 6 बजे तक चन्द्रशेखर सेतु पार करके शहरी क्षेत्र के पार्किंगों व मेला क्षेत्र के बक्शी बांध अथवा बड़ा बघाड़ा पार्किंग में पार्क करने की सुविधा रहेगी। 3 फरवरी की सुबह 6 बजे के बाद से यू.पी. 70 रजिस्ट्रेशन वाले वाहनों के अतिरिक्त अन्य सभी वाहनों का चन्द्रशेखर सेतु पर शहर की ओर आना प्रतिबन्धित रहेगा।

कानपुर की तरफ से आने वाले वाहनों को 2 फरवरी से बालसन चौराहा से पहले के पार्किंगों व शहरी क्षेत्र के पार्किंगों में पार्क कराया जायेगा। उन्हें बालसन चौराहे से आगे मेला क्षेत्र की तरफ आने की अनुमति नहीं होगी। इस ओर से आने वाले वाहनों को 2 फरवरी को नेहरु ग्राम सैन्य भूमि में पार्क कराया जायेगा।

भीड़ देखते हुए 3 फरवरी को कोखराज से डायवर्ट करके बेला कछार पार्किंग में भेजकर पार्क कराया जायेगा जहां से स्नानार्थी सेक्टर-6 व 7 के स्नान घाटों पर स्नान कर सकेंगे। सेक्टर 6 व 7 के स्नान घाटों पर अत्याधिक भीड़ होने पर कानपुर से आने वाले वाहनों को कोखराज से डायवर्ट करके सीधे सहसों बाई-पास होकर चीनी मिल, पूरे सूरदास व समयामाई के पार्किंगों में भेजकर पार्क कराया जायेगा।

चन्द्रशेखर सेतु से होकर आने वाले वाहनों की वापसी धूमनगंज होते हुए कानपुर मार्ग पर किया जायेगा जिससे फाफामऊ से आगे जाम न लगे। इसके अतिरिक्त किये गये यातायात प्रबन्धों के अन्तर्गत रोडवेज व रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों की वापसी हेतु समुचित मात्रा में बसों को रिजर्व रखे जायेंगे।

मिर्जापुर अथवा रीवां, चित्रकूट की ओर से आने वाले वाहनों को 2 फरवरी की शाम 6 बजे के बाद से नैनी की तरफ बनाये हुए पार्किंगों में पार्क कराया जायेगा। इसके अतिरिक्त 3 व 4 फरवरी को आकस्मिक सेवाओं के अतिरिक्त अन्य समस्त वाहनों का नये यमुना ब्रिज पर आवागमन प्रतिबन्धित रहेगा।

पुराने यमुना ब्रिज पर 03 फरवरी को वाहनों के आवागमन पर कोई प्रतिबन्ध नहीं रहेगा लेकिन 4 फरवरी का वी.आई.पी. वाहन न्यायाधीश आदि एवं आकस्मिक सेवाओं से सम्बन्धित तथा यू.पी. 70 रजिस्ट्रेशन वाले वाहनों का ही संचालन किया जायेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper