मौनी अमावस्या पर कुम्भ के लिए चलेगी निःशुल्क 500 बसें

लखनऊ ब्यूरो। उत्तर प्रदेश परिवहन निगम द्वारा प्रयागराज कुम्भ मेला में श्रद्धालुओं को सुगम, सस्ती एवं आरामदायक यात्रा सुलभ कराने के उद्देश्य से प्रयागराज क्षेत्र में संगम तक जाने के लिए 500 निःशुल्क शटल बस की सुविधा उपलब्ध करायी जायेगी। यह बसें प्रयागराज क्षेत्र के अस्थायी बस स्टेशनों व पार्किंग स्थलों से संगम तक जाने के लिए उपलब्ध रहेंगी।

द्वितीय शाही स्नान पर्व मौनी अमावस्या 04 फरवरी पर प्रशासन द्वारा अनुमानित तीन करोड़ तीर्थयात्रियों के आने की संभावना पर प्रदेश के समस्त क्षेत्रों से कुम्भ के लिए 5500 बसें संचालित करेगा। साथ ही श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो अतः 600 अतिरिक्त बसें रिजर्व में रहेंगी। लखनऊ से प्रयागराज जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए आलमबाग, चारबाग एवं कैसरबाग बस स्टेशन से लगभग 30 मिनट के अन्तराल पर बस सेवा उपलब्ध करायी जायेगी।

यह बसें प्रयागराज के देव प्रयाग (रूद्रपुर) अस्थाई बस स्टेशन एवं बेला कछार, पार्किंग स्थल तक जायेगीं, वहाॅं से श्रद्धालुओं को संगम तक ले जाने के लिए सिटी बस/शटल बस की सुविधा मिलेगी।
शटल बसें शहर के चारों तरफ बने अस्थाई बस स्टेशनों से संगम स्थल के निकट पहुंचने हेतु संचालित करायी जायेंगी। इससे प्रयागराज में विभिन्न पार्किंग स्थलों से मेला क्षेत्र तथा शहर के अन्दर आने वाले समस्त तीर्थ यात्रियों विशेषकर महिला एवं वृद्ध तीर्थ यात्रियों को विशेष सुविधा होगी।

द्वितीय मुख्य शाही स्नान पर्व मौनी अमावस्या पर 03, 04 एवं 05 फरवरी को श्रद्धालुओं के लिए 500 शटल बसें निःशुल्क संचालित की जायेंगी। ये बसें प्रयागराज क्षेत्र के अस्थायी बस स्टेशनों एवं पार्किंग स्थलों से श्रद्धालुओं को संगम तट तक ले जाने के लिए उपलब्ध रहेंगी।
कुम्भ मेला 2019 में सड़क मार्ग से आने वाले श्रद्धालु रोडवेज बस द्वारा 07 प्रमुख मार्गो से प्रयागराज कुम्भ पहुॅच सकते है। इसमें जौनपुर, वाराणसी, मिर्जापुर, रीवां-चित्रकूट, कानपुर, लखनऊ एवं प्रतापगढ़-अयोध्या मार्ग से बसें संचालित की जायेंगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper