मौलाना साद के ठिकाने का पता चला, दिल्ली में सहयोगी के निवास पर क्वारंटाइन है!

नई दिल्ली: निजामुद्दीन मरकज से तबलीगी जमात के लोगों को निकालने के बाद से एक सवाल सबके मन में है कि सबको वहां जुटाने वाले मौलाना साद कहा हैं। अब उनके ठिकाने का पता चल गया है। निजामुद्दीन मरकज के प्रमुख मौलाना मोहम्मद साद कांधलवी दक्षिण पूर्वी दिल्ली में अपने एक करीबी सहयोगी के निवास पर क्वारंटाइन हैं। यह जानकारी सूत्रों से मिली है। साद सरकार की मनाही के बावजूद तब्लीगी जमात का कार्यक्रम आयोजित करने के बाद विवादों में बने हुए हैं।

जानकारी के मुताबिक, मौलाना साद ज्यादातर वक्त मरकज पर या कांधला स्थित अपने पैतृक घर में रहते हैं। मरकज प्रमुख इससे पहले भी तब्लीगी जमात के विभाजन के कारण विवादों में रहे हैं। उनके वकील का कहना है कि दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा (क्राइम ब्रांच) ने सीआरपीसी की धारा-91 के तहत मरकज प्रमुख को दूसरा नोटिस जारी किया, लेकिन उनकी व्यक्तिगत उपस्थिति की मांग नहीं की।

मरकज के मुख्य वकील फुजैल अहमद अयूबी ने कहा, मरकज ने पुलिस अधिकारियों द्वारा उठाए गए सभी कदमों के लिए अपना सहयोग दिया है। उन्होंने कहा कि मरकज की तरफ से भविष्य में भी संबंधित जांच में पूर्ण सहयोग किया जाएगा। कोरोना वायरस संकट के बीच फिलहाल मरकज का कार्यक्रम सबसे बड़ा विवाद बना हुआ है। क्योंकि इसके कार्यक्रम में शामिल हुए सैकड़ों लोग कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए हैं। सरकार ने विभिन्न राज्यों में जमात के कम से कम 25000 सदस्यों को क्वारंटाइन में रखा है। अभी भी जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए व जमातियों के संपर्क में आए लोगों की तलाश की जा रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper