यहाँ के लोग शव को आधा जलाकर वापिस घर ले आते हैं, जानिए क्या है कारण

लखनऊ: विश्व में ऐसे अनगिनत लोग,कूबीले,परंपराएं और मान्यताएं हैं जिनके बारे में जानकर हम विल्कुल हैरान रह जाते हैं। जीवन और मृत्यु जिंदगी के सबसे बड़े सच में शामिल है और हर देश में इससे जुड़ी अलग-अलग तरह की प्रथाएं भी हैं। कहीं पर मृतक देह को जलाया जाता है तो कहीं पर दफनाया जाता है।

आज हम जिस अजीब परंपरा की बात कर रहे हैं उसके अनुसार मृतक शरीर को जलाया तो जाता है लेकिन जलाने के बाद देह को घर वापिस लाकर वहां सहेज कर रख लिया जाता है। ऐसा मृतक व्यक्ति की याद को सहेज कर उसे एक श्रद्धांजलि के तौर पर रखा जाता है। आइए जानें इस परंपरा से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातों के बारे में-

हम जिस जनजाति की बात कर रहे हैं वह पापुआ न्यू गीनिया में दानी नाम से मशहूर है। इस अलग तरह की जनजाति में जब किसी की मृत्यु हो जाती है तब मृतक देह को दफनाने की बजाए उसे जलाया जाता है। इतना ही नहीं हैरान कर देने वाली बात तो यह है कि इसके बाद जले हुए शरीर को दोबारा अग्नि से निकाल कर उसे ममी के रूप में सहेज कर रखा जाता है।

दानी जनजाति के लोग एक खास तकनीक के द्वारा मृत जली हुई देह को सालों तक ममी बना कर अपने पास रखते है। इसी पीछे की वजह अपने परिवारिक सदस्य को मरने के बाद श्रद्धांजलि देना मन जाता है। हालाकि बदलते जमाने के साथ पुराने रीति रिवाज और परंपराए भी अब धीरे-धीरे बदल रही हैं। अब इस कबीले में भी इस परंपरा का कोई खास पालन नहीं किया जाता।

किसी कारण इस प्रथा को लोग अब मानना भी छोड़ रहे हैं लेकिन जो मृत शरीर पहले से ही सहेज कर रखे जा चुके हैं,ऐसा ममी को देखने के लिए लोग दूर-दूर से यहां आते भी हैं। इस अनोखे तकीर से संभाल कर रखे हुए मृत शरीर यहां का खास आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper