यहां अंतिम संस्कार के समय नाचने के लिए बुलाई जाती हैं लड़कियां, तेज आवाज में बजते हैं गाने

हमारे देश में जब भी किसी की मृत्यु हो जाती है तो अंतिम संस्कार के दौरान लोग काफ़ी गमगीन होते हैं। हम अपने परिजनों को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं, लेकिन कई देशों में ऐसी परंपराएं प्रचलित हैं कि आप सुनकर हैरान हो जाएंगे। अंतिम संस्कार के समय कुछ ऐसी ही परंपरा हमारे पड़ोसी देश चीन में अपनाई जाती है। चीन के कुछ हिस्सों में शवयात्रा के दौरान लाउडस्पीकर पर तेज़ आवाज़ में गाना बजता है और स्ट्रिपर्स बुलाई जाती हैं। यह चलन चीन के बाहरी हिस्सों और गाँवों में ज़्यादा दिखाई देता है।

फुजियान नॉर्मल यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर ख्वांग जेएनशिंग बताते हैं कि कुछ स्थानीय परंपराओं में उत्तेजक नृत्य को मरने वाले की उस इच्छा से जोड़कर देखा जाता है, जहां वे वंश बढ़ाने का आशीर्वाद चाहते हैं। चीन के देहाती इलाकों में शोक जताने आए लोगों के मनोरंजन के लिए कलाकारों, गायकों, कॉमेडियन और स्ट्रिपर्स को भाड़े पर बुलाकर ख़र्च करने की परंपरा ज़्यादा है।”

यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ कैरोलिना के मार्क मोस्कोवित्ज का कहना है, “ताइवान में 1980 के दौरान अंतिम संस्कार के समय स्ट्रिपर्स की मौजूदगी ने पहले लोगों का ध्यान खींचा। ताइवान में यह चलन आम हो गया, लेकिन चीन में सरकार की सख़्ती की वजह से कई लोग इस परंपरा के बारे में जानते भी नहीं है।” उन्होंने आगे कहा, “अंतिम संस्कार के समय स्ट्रिपर्स को बुलाने का मामला कानूनी और गैरकानूनी गतिविधि के बीच है।”

2017 में ताइवान के दक्षिणी शहर जियाजी में हुए एक अंतिम संस्कार में 50 पोल डांसर्स ने हिस्सा लिया था। वो सभी जीप की छत पर सवार थीं। उस समय एक स्थानीय नेता का अंतिम संस्कार हुआ था। चीन की सरकार इस परंपरा के ख़िलाफ़ काफ़ी समय से सख़्ती बरत रही है, लेकिन उसका कोई फ़ायदा होता हुआ नहीं दिख रहा है। चीन के सांस्कृतिक मंत्रालय ने इस रस्म को असभ्य क़रार देते हुए ऐलान किया था कि अगर कोई अंतिम संस्कार के समय लोगों के मनोरंजन के लिए स्ट्रिपर्स को किराए पर बुलाएगा, तो उसे दंडित किया जाएगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper