…यहां कुंवारी लड़कियों की लाशों की लगती है बोली

आपको अपने बड़े बूढ़ों की ये कहावत तो याद ही होगी कि जिंदा रहने के दौरान ही जो भी अच्छे काम करना है उसे कर लो क्योंकि मौत के बाद तो कोई आपको याद भी नहीं करेगा। लेकिन हम आपको बता दे कि चीन में रहकर आप मरने के बाद भी किसी के काम आ सकते हो जिस वजह से आपको हर कोई याद कर सकता है। चीन में लोगों को मरने के बाद भी उन्हें याद किया जाता है। और इनमें महिलाएं बहुत खास है।

पश्चिमोत्तर चीन के शांक्सी इलाका में रहने वाले एक परिवार ने कुछ दिनो पहले ही एक शादी का समारोह किया था। जिसे Ghost wedding के नाम से जाना गया। वहां पर शादी एक ऐसे लड़के की थी जो मर चूका था हम आपको बता दें कि शांक्सी प्रांत में एक प्राचीन प्रथा है जिसमें लोगों द्वारा कुंवारे मरे हुए बेटे की शादी एक मरी हुई लड़की से करवाई जाती है। वहां के लोगो का ये मानते है कि ऐसा करने से लड़के की भटकती हुई आत्मा को जल्द ही शांति मिल जाती है। यहां के लोगों का ये मानना है की इस तरह शादी करने से वह शापित नहीं होते हैं।

अपने मृत बेटे की शादी करवाने के लिए लड़के के घरवाले मरी हुई लड़की की लाश को खरीद लेते हैं। और ऐसे में लड़की के घरवालों की आज्ञा ली जाती है। लड़के के घरवाले चाहे कितने भी गरीब क्यों ना हो लेकिन वह अपने कुंवारे लड़के की आत्मा को शांति प्राप्त करवाने के लिए वह हर कीमत पर लड़की की लाश को खरीदने के लिए तैयार हो जाते हैं। चीन में लड़को की मृत्यु अक्सर कोयला खादानों में दुर्घटना के कारण से होती है। और ऐसी दुर्घनाओं की वजह से ही महिलाओं के मुकाबले में पुरुषों की मृत्यु होने के ज्यादा आंकडे़ पाए जाते हैं। जिस कारण लड़कियों की लाश मिलना बहुत ही मुश्किल हो जाता है।

ऐसे में कुछ लोग महिलाओं की लाश को चुराकर भी शादी करवा देते हैं। और इसके बाद मरी हुई लड़की की लाश को लड़के के बगल वाली कब्र में दफना दिया जाता है। और इसी चोरी के कारण लाशों को बचाने के लिए चीन की सरकार ने कब्रिस्तानों पर पुलिस को चौकसी करने के लिए बिठा दिया है ताकि वहां से लाशों की चोरी ना हो पाए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper