…यहां लगता है ‘दुल्हन बाजार’, पैसे देकर खरीद सकते हैं मनपसंद दुल्हन

लखनऊ: आज के समय में छोटी से लेकर बड़ी चीज तक बाजार में मौजूद है, जिसे आप अपनी जरूरत के अनुसार उसका उचित मूल्य देने के बाद आसानी से खरीद सकते हैं। अगर हम आपसे कहें कि बाजार से आप दुल्हन भी खरीद सकते हैं। जी हां! आपको यह सुनने में अजीब लग रहा होगा, पर यह बिल्कुल सच है।

आज हम आपको एक ऐसे अनोखे बाजार के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां दुल्हनें बिकती हैं, वह भी वैध तरीके से। बुल्गारिया में स्टारा जागोर नाम की जगह पर हर तीन साल में एक बार दुल्हनों का बाजार सजता है। कोई भी शख्स यहां आकर अपनी पसंद की दुल्हन खरीदकर उसे अपनी पत्नी बना सकता है। यह मेला ऐसे गरीब परिवारों द्वारा लगाया जाता है, जिनके आर्थिक हालात ऐसे नहीं है कि वे बेटी की शादी का खर्च उठा सकें।

इस बाजार में लड़कियों को दुल्हन की पोशाक में सजाकर ले जाया जाता है। बिकने वाली दुल्हनों में लगभग हर उम्र की लड़कियां-महिलाएं शामिल होती हैं। दुल्हन खरीदने के लिए अक्सर लड़के के साथ उसके परिवार वाले भी पहुंचते हैं। दूल्हा पहले अपनी मनपसंद लड़की चुनता है और फिर उसे उससे बात करने का मौका दिया जाता है। लड़की पसंद आने पर उसे अपनी पत्नी स्वीकार कर लेता है और लड़की के परिवार वालों को तय रकम देता है। दुल्हन खरीदने का चलन गरीब परिवारों में यहां कई पुश्तों से चला आ रहा है। इस पर कानूनी रोक भी नहीं है।

यह बाजार बुल्गारिया के कलाइदझी समुदाय द्वारा लगाया जाता है। खास बात यह है कि यहां पर इस समुदाय के अलावा कोई बाहरी व्यक्ति दुल्हन नहीं खरीद सकता। इस दुल्हन बाजार में वही परिवार होते हैं, जो अपनी लड़कियों की शादी करने के लिए आर्थिक रूप से कमजोर हैं। बाजार में लड़कियां अकेले नहीं आतीं। उनके साथ परिवार का कोई-न-कोई सदस्य जरूर होता है। आमतौर पर लड़के वाले दहेज लेते हैं, लेकिन इस बाजार में रिवाज उल्टा है। यहां लड़के को लड़की के परिवारवालों को पैसे देने पड़ते हैं। बाजार में लड़के को पसंद आई लड़की को उसके परिवारवालों को भी बहू मानना होता है। इस नियम का पालन सख्ती से होता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper