यह पौधा है शनिदेव को बहुत प्रिय जिस घर में भी होता है, वहां वास करती हैं लक्ष्मी

आज हम आपको एक ऐसे पौधे के बारे में बताने जा रहे है, जो शनि देव को बहुत प्रिय है। इसके इलावा यह भी कहा जाता है, कि लंका पर विजय पाने के बाद श्रीराम ने इस पौधे की पूजा की थी। जी हां दोस्तों दरअसल हम यहाँ पर शमी नामक पौधे की बात कर रहे है। जिसे धर्म शास्त्रों में काफी पूजनीय भी माना जाता है।

shami ka podha
यूँ तो हमारे शास्त्रों में न्याय के देवता शनिदेव को प्रसन्न करने के तरह-तरह के उपाय बताएं गए है। मगर ये उपाय बेहद लाभकारी और अच्छा है. क्योंकि शमी का पौधा शनिदेव का प्रिय पौधा माना जाता है. आपको बता दे कि अगर आप शनिदेव की टेढ़ी नजर से बचना चाहते है, तो आप शमी का पौधा अपने घर में ले आए और उसकी पूजा करना शुरू करे।
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper