यह है दुनिया की सबसे छोटी मां, 5 साल की उम्र में दिया बच्चे को जन्म!

लखनऊ: दुनिया की सबसे कम उम्र में मां बनने वाली बच्ची की कहानी मीडिया और इंटरनैट पर हैरानी का विषय बनी हुई है। पेरू की केपिटल सिटी में रहने वाली लीना मदीना नाम की इस बच्ची ने सिर्फ 5 साल, 7 महीने की उम्र में एक स्वस्थ बेटे को जन्म दिया था। यह घटना मैडीकल जगत के लिए आज भी एक पहेली है, क्योंकि इतनी छोटी उम्र में वे मां कैसे बनीं, इसका खुलासा आज तक नहीं हुआ।

लीना मदीना का जन्म पेरू के तिक्रापो में 27 सितम्बर 1933 को हुआ था। लीना जब पांच साल की थी तब उनके पेट का आकार अचानक बढ़ने लगा। लीना के माता-पिता को लगा कि पेट ट्यूमर की वजह से बढ़ रहा है। हालांकि, तिक्रापो एक ग्रामीण और पिछड़ा इलाका था और यहां अस्पताल की सुविधा नहीं थी। इसी के चलते परिवार गांव के ही एक ओझा से झाड़-फूंक करवाता रहा, जिससे लीना के गर्भ में पल रहा बच्चा पनपता चला गया।

झाड़-फूंक और प्राचीन उपचार के तरीकों से कोई फायदा नहीं हुआ तो लीना को शहर ले जाकर डॉक्टर को दिखाया गया। डॉ. जेरादरे लोजादा ने लीना की जांच तो उन्हें गर्भावस्था का संदेह हो गया और वे लीना को पास ही स्थित शहर के एक अस्पताल में ले गए। इस तरह जांच के बाद यह साफ हो गया कि लीना प्रेग्नेंट थी।कम उम्र के चलते बच्चे के जन्म के समय उनकी जान को खतरा था। इसीलिए डॉक्टर्स की टीम ने उन्हें करीब एक महीने तक अस्पताल में ही रखा और उनकी हालत पर लगातार नजर रखी।

आखिरकार लीना ने 14 मई, 1939 को ऑपरेशन द्वारा एक बेटे को जन्म दिया। इस समय तक लीना की न्यूज पेरू सहित पूरी दुनिया की मीडिया में छा गई थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, लीना को मात्र 3 साल की उम्र से ही पीरियड आने शुरू हो गए थे। वहीं, 5 साल की उम्र तक कोख एक बच्चे को जन्म देने लायक हो चुकी थी। बच्चे के जन्म के समय जब डॉक्टर्स ने लीना का ऑपरेशन किया तो उन्होंने भी पाया कि प्रजनन अंग पूरी तरह विकसित हो चुके थे।

जन्म के समय बच्चे का वजन 2.7 किलो था और उसका नाम सर्जरी करने वाले डॉक्टर जेरादरे के नाम पर ‘जेरादरे’ ही रखा गया था। जेरादरे की परवरिश लीना के भाई के रूप में की गई थी। जब जोरार्दो 10 साल का हुआ, तब उसे पता चला कि लीना उसकी बहन नहीं, बल्कि मां है। साल 1970 में लीना की शादी राउल जुरादो नाम के युवक से हुई और इस तरह लीना 1972 में दूसरे बेटे की मां बनी। हालांकि साल 1979 में उनके पहले बेटे जेरादरे की 40 साल की उम्र में एक बीमारी के चलते मौत हो गई थी।

लीना के मामले में सबसे बड़ा प्रश्न यह था कि आखिरकार वह मां कैसे बनी। खुद लीना को भी इस बारे में कुछ पता नहीं था। इसके चलते पुलिस का शक सबसे पहले लीना के पिता पर गया कि कहीं उन्होंने ने ही लीना का यौन शोषण न किया हो, लेकिन मैडीकल जांच में यह बात गलत निकली। पेरू के मीडिया में पब्लिश एक रिपोर्ट में इस बात पर संदेह व्यक्त किया गया कि लीना के साथ रेप हुआ हो।

दरअसल, लीना जिस गांव में रहती थी, वहां के आसपास के कई गांवों में हर साल में एक बार पारंपरिक त्योहार मनाया जाता था। इस त्योहार के दौरान सामूहिक तौर पर युवक-युवतियां के बीच यौन संबंध बनाए जाते थे। इस दौरान कई लड़कियों का रेप भी होता था। इसीलिए यह माना गया कि लीना का भी रेप हुआ हो। हालांकि, लीना की उम्र के चलते इस बात पर भी संदेह व्यक्त किया गया। इस तरह लीना के मां बनने का रहस्य हमेशा के लिए रहस्य ही बनकर रह गया। लीना का सिर्फ साढ़े 5 साल की उम्र में मां बनना एक चौंकाने वाली घटना थी। इसके चलते दुनिया भर के कई मीडिया ने लीना का इंटरव्यू लेने की कोशिश की, लेकिन लीना ने आज तक किसी को इंटरव्यू नहीं दिया।

लीना जब मां बनीं, तब उनके परिवार की माली हालत बहुत खराब थी। यहां तक कि इलाज का खर्च भी खुद अस्पताल ने उठाया था। पेरू के न्यूज पेपर ‘ला क्रोनिका’ की न्यूज के मुताबिक, लीना के परिवार को एक अमरीकन फिल्म कंपनी ने 5 हजार डॉलर का ऑफर दिया था। क्योंकि, कंपनी लीना के जीवन पर फिल्म बनाना चाहती थी, लेकिन परिवार ने ऑफर ठुकरा दिया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 84 साल की हो चुकीं लीना पति के साथ अब पेरू की केपिटल सिटी लीमा की एक बस्ती में रहती हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper