यूपी में कोरोना पर काबू पाने फिर लॉकडाउन, दिल्ली से लगे नोएडा-गाजियाबाद बॉर्डर पर बढ़ी सख्ती

नोएडा: कोरोना वायरस (COVID-19) संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर उत्तर प्रदेश में एक बार फिर से लॉकडाउन लागू किए जाने के साथ ही पुलिस ने शनिवार रात से ही दिल्ली से लगी नोएडा और गाजियाबाद की सीमाओं पर सतर्कता और बढ़ा दी है। पुलिस आवश्यक सेवाओं में शामिल सभी लोगों को उनके पहचान पत्र की जांच करने के बाद ही अपने जिलों की सीमाओं में दाखिल होने की अनुमति दे रही है।

जानकारी के अनुसार, उत्तर प्रदेश में शुक्रवार रात 10 बजे से शुरू हुआ लॉकडाउन 13 जुलाई को सुबह 5 बजे तक जारी रहेगा। इस दौरान कोई ई-पास नहीं होने के चलते काफी लोगों को अपने गंतव्य तक पहुंचने में काफी मुश्किलें उठानी पड़ रही हैं। एक यात्री ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा कि मैंने उत्तर प्रदेश सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर ई-पास के लिए आवेदन करने की कोशिश की, लेकिन वहां इसके लिए कोई विकल्प ही मौजूद नहीं है।

राज्य सरकार ने लॉकडाउन लागू करने के अपने आदेश में कहा था कि इस दौरान पूरे उत्तर प्रदेश में सभी दुकानें और ऑफिस पूरी तरह बंद रहेंगे। केवल आवश्यक वस्तुओं को बेचने वाली दुकानों को निर्धारित समय के लिए खोले जाने की अनुमति होगी। इस दौरान राज्य भर के सभी शहर और बाजार सुनसान पड़े हैं। केवल आवश्यक वस्तुओं को लाने और ले जाने वाले वाहनों को आवागमन करने की अनुमति दी गई है। लोग केवल दूध, राशन और सब्जी जैसी आवश्यक वस्तुओं को खरीदने के लिए बाहर निकलते दिखे और ज्यादातर लोग अपने घरों के अंदर ही रहे। पुलिस ने उन सभी लोगों को वापस भेज दिया जो बिना वजह सड़कों पर घूमते पाए गए थे। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, उत्तर प्रदेश में अब तक 32,362 लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुए हैं, जिनमें से 21,127 मरीज ठीक हो चुके हैं और 862 लोगों को कोरोना के कारण अपनी जान गंवानी पड़ी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper