यूपी में बीजेपी को चाहिए 75 लोक सभा सीटें ,योगी ने बनाया नया प्लान

दिल्ली ब्यूरो: बीजेपी यूपी में फिर से अपना भारी जीत दर्ज करना चाहती है। अगले लोक सभा चुनाव में वह 75 सीटें जितने की तयारी कर रही है। इतनी सीटों पर जीत दर्ज करने के लिए बीजेपी कई स्तर पर काम कर रही है। बीजेपी को लग रहा है कि अगर यूपी में पार्टी को 2014 चुनाव से ज्यादा सीटें नहीं मिली तो सरकार बनाना कठिन है। बीजेपी को यह भी लग रहा है कि यूपी में भगवान् राम के नाम पर लोगों को अपने पाले में लाया जा सकता है जबकि अन्य राज्यों में ऐसा संभव नहीं है। इसलिए बीजेपी का पूरा जोर यूपी पर केंद्रित है।

बीजेपी की तैयारी को देखते हुए ही भाजपा की राज्य इकाई के अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडे ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के सामने विपक्ष का कोई गठबंधन नहीं टिक पाएगा। पांडे ने कहा, ”देश मोदी के साथ है, न कि विपक्ष के स्वार्थी गठजोड़ के साथ. चुनाव जितने नजदीक आएंगे.मोदी और योगी के तहत सुशासन और विकास ही लोगों को नजर आएगा।”यह पूछे जाने पर कि यूपी में, चुनाव में राम मंदिर मुद्दे का कितना असर होगा, पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, ”मंदिर हमारे लिए आस्था एवं श्रद्धा का प्रश्न है। यह कोई चुनावी मुद्दा नहीं है।” उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि उच्चतम न्यायालय इस मुद्दे पर शीघ्र निर्णय करे और अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त हो। यूपी में लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी की तैयारियों का जिक्र करते हुए पांडे ने कहा कि राज्य में लोकसभा चुनाव के संदर्भ में हमारी संगठनात्मक तैयारियां अंतिम चरण में हैं जहां बूथ स्तर पर खास ध्यान दिया गया है।

बूथ समितियों के गठन पर जोर पांडे ने दावा किया कि राज्य में 1.62 लाख बूथों में से 1.43 लाख बूथों पर बूथ समितियों का गठन कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि पार्टी ने राज्य में गांव-गांव, पांव-पांव पदयात्रा शुरू की है, जो 1 से 15 दिसंबर तक आयोजित हो रही है। लोकसभा चुनाव की तैयारी के अगले चरण में भाजपा 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के अवसर पर कमल विकास ज्योति अभियान शुरू करेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper