ये एक पत्ता आपको 80 सालों तक बीमार नहीं होने देगा

पपीते के पत्ते का जूस पीकर आप कई बीमारी हो दूर भगा सकते हैं। यह बात तो आपने सुनी ही होगी कि पपीता खाने से हमें बहुत सारे फायदे मिलते हैं। लेकिन आज हम आपको पपीते के पत्ते खाने के या फिर उसका जूस पीने के फायदों के बारे में बताने वाले हैं। क्या आपको पता है कि पपीते के पत्ते अनेक औषधीय गुणों से भरे हुए हैं। आपकी बॉडी में जितने भी रोग हैं वह पपीते के पत्ते के इस्तेमाल से दूर हो सकते हैं। पपीते के पत्ते खाने में कड़वे लगते हैं। लेकिन इसमें कमाल के गुण छुपे हुए होते हैं।

पपीते के पत्तों में Vitamin A, B, C, D और E होता है और इसके साथ ही कैल्शियम की मात्रा भी काफी अधिक होती है। इन दिनों वह लोग जो अपनी सेहत के प्रति जागरूक हैं। पपीते के पत्ते का इस्तेमाल करने लगे हैं। इसके प्रयोग से घातक रोग जैसे कि कैंसर, दिल की बीमारी, डेंगू, ब्लड शुगर तथा आतो में बसे परजीवियों को नष्ट करने में सफलता मिलती है। ये शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढाता है। पपीते की ताज़ी व छोटी-छोटी पत्तियां बॉडी से डेंगू के विषैले जहर को निकालने में मदद करती हैं। पपीते की ताजी पत्तियों को पीसकर उसका रस रोगी को पिलाने से प्लेटलेट्स बढ़ने लगती हैं।

पपीते के स्वास्थ्य लाभ

आप पपीते की पत्तियों के जूस को अन्य फलो के जूस में मिलाकर रोगी को दे सकते हैं। आइए जानते हैं पपीते के पत्तों को किन-किन रोगों को दूर करने में इस्तेमाल कर सकते है और उसकी सेवन विधि क्या होगी। इसमें कैंसर रोधिक गुण होते हैं जो कि इम्युनिटी को बढ़ाने में मदद करते हैं। और सर्वाइकल कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, अग्नाशय, जिगर व फेफड़ों के कैंसर को होने से रोकते हैं। इसके अलावा बैक्टीरिया की निरोध को रोकते हैं पपीते की पत्तियों में 50 एक्टिव सामग्रियां होती हैं। जो कि सुख्श्मय जीवो जैसे फंगस, कीड़े, परजीवी, कैंसर कोशिकाओं के विभिन्न अन्य रूपों को बढ़ाने से रोकते हैं।

इसके अलावा ये इम्यूनिटी को बढ़ाता है इन पत्तियों में सर्दी और जुकाम जैसे रोगों से लड़ने की शक्ति होती है। ये खून में वाइट ब्लड सेल्स और प्लेटलेट्स को बढ़ा देती है। एंटी मलेरिया गुण मौजूद होते हैं पपीता के पत्तों में। यह मलेरिया से लड़ने में काफी ज़्यादा प्रभावकारी है पपीते के पत्तों का रस मलेरिया के लक्षणों को बढ़ने से रोकता है। डेंगू में ये रामबाण की तरह कार्य करता है डेंगू से लड़ने के लिए पपीते के पत्तियां काफी लाभकारी होती हैं। यह गिरती हुई प्लेटलेट्स को बढ़ाने व खून के थक्के जमने तथा जिगर की शत्री को रोकते हैं जो कि डेंगू वायरस के कारण हो जाता है। इसके अलावा महावारी के दर्द से छुटकारा दिलाता है।

महावारी के दर्द को दूर करने के लिए इसका काढ़ा बनाएं जिसमें एक पपीते के पत्ते को इमली, नमक और एक गिलास पानी के साथ मिक्स करके इसे उबालें। और जब काढ़ा बनकर तैयार हो जाए तब इसे पी लें इससे आपको बहुत आराम मिलेगा। ये जड़ी बूटी खून में ब्लड प्लेटलेट्स बढ़ा देती है इसलिए पपीते के पत्ते के रस कुछ दिनों तक पीना चाहिए। मुंहासों में भी यह बहुत कारगर साबित होती है अगर आपके चेहरे पर मुंहासे हैं तो सूखे पपीते की पत्तियां लेकर उसे थोड़े से पानी के साथ मिक्स करके पेस्ट बना लें। फिर इस पेस्ट को चेहरे पर लगाकर सुखा लें। फिर ताजे पानी से चेहरे को धो लें। इससे आपके चेहरे के सभी पिंपल खत्म हो जाएंगे। इसके अलावा अगर आप पपीते के पत्ते की चाय पिएंगे तो आपकी खोई हुई भूख दोबारा वापस आ जाएगी। यानी कि आपका पाचन तंत्र दुरुस्त हो जाएगा और आपको भूख लगने लगेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper