ये कछुए कर देगें आपकी प्रत्येक समस्या का समाधान

अच्छी किस्मत को पाने के लिये हम लोग न जाने कितने जतन करते है। कोई भगवान शंकर को जल चढाता है तो कोई भगवान गणेण को लड्डु। कोई चींटियों को आटा डालता है तो कोई मछली को खाना। भारत में किस्मत बदलने के लिये वास्तु का भी बडा ध्यान रखा जाता है। पुजा का स्थान किधर होना चाहिये और किचन कहां होना चाहिये इन सबके बारे में बताया गया है।

साथ ही साथ टीवी में भी किस्मत को बदलने के कई नुस्खे आते रहते है। जिस प्रकार भारत में वास्तु प्रचलित है उसी तरह चीन में फेंगशुई चलन में रहते है। इन दिनों भारत में भी अच्छे भाग्य के लिये चीन के कई सौभाग्य की वस्तुए लोकप्रिय है जिनमें लाफिंग बुद्धा से लेकर सौभाग्य सुचक कछुआ प्रमुख है। कहते है कि कछुआ बहुत सौभाग्यकारक और सकारात्मक उर्जा प्रदान करने वाला होता है।

लेकिन किस समस्या के हल के लिये किस धातु का कछुआ घर में रखा जाना चाहिये उनका भी ध्यान रखना जरूरी होता है। भास्कर को कोलकत्ता की वास्तुविद डॉ दीक्षा राठी ने बताया है कि कौनसा कछुआ हमें क्या लाभ देता है जानते है।

क्रिस्टल का कछुआ
आज के दौर में हर व्यक्ति की सबसे प्रमुख समस्या धन को लेकर होती है। पैसे की आवक ना होना या उल जलुल कार्यो में पैसों का खर्च हो जाना आज कई घरों की समस्या है। अगर आपके साथ भी धन संबधी कोई भी समस्या है तो आप अपने घर में क्रिस्टल का कछुआ अपने लॉकर या तिजोरी में लाकर रख सकते है इससे आपकी धन संबधी सभी रूकावटें खत्म हो जायेगीं।

मिट्टी का कछुआ
पहला सुख निरोगी काया। स्वस्थ शरीर को दुनिया का सबसे बडा सुख माना गया है। अपने स्वास्थय के लिये हम हर तरह का ध्यान रखते है तो भी कई बार बिमार हो जाते है। ऐसे में जिन घरों में कोई न कोई सदस्य हमेशा बीमार रहता हो उन लोगों को अपने घर में मिट्टी का कछुआ रखना चाहिये। इसे स्वास्थ्य के हिसाब से अच्छा माना जाता है।

 

 

चांदी का कछुआ
अगर आपके व्यापार में उन्नति नहीं हो रही हो। और कई सालों से आपका व्यापार अवरूद्ध हो रहा हो तो आप अपने व्यापार की उन्नति के लिये अपने व्यावसायिक स्थल पर चांदी का कछुआ रखें। यह कछुआ आपके व्यापार को उन्नति तो प्रदान करेगा ही साथ ही आपके व्यापार को लगने वाली बूरी नजर से भी बचायेगा।

 

 

कछुओं की पीठ पर बच्चे
जिन घरों में या जो जोडे संतान सुख से वंचित हो उन जोडों को संतान सुख पाने के लिये बाजार में मिलने वाले ऐसे कछुए को रखना चाहिये जिसकी पीठ पर छोटे छोटे बच्चे बने हुये हो। यह सौभाग्य सुचक होता है और इनके रखने से संतान सुख की प्राप्ति होती है।

पीतल का कछुआ
आज के समय में पढाई में अच्छा करना या अच्छी नौकरी पाना हर एक विधार्थी का लक्ष्य होता है। लेकिन कई बार बहुत मेहनत करने के बाद भी इसमें सफलता नहीं मिलती है। तो ऐसे में पीतल का कछुआ रखना चाहिये जिनसे इस तरह की सभी परेशानियों से निजात मिलती है।

कछुऐ का जोडा
आज के समय में पारिवारिक क्लेश होना सबसे बडी समस्या बन गया है। घरों में शांति नहीं रहती है और यह एक घर की नहीं बल्कि कई घरों की समस्या बन गयी है। ऐसे में अगर आपके घर में भी शांति नहीं रहती है और परिवार के सदस्यो में कलह रहती है तो आपको कछुए का जोडा घर में रखना चाहिये। इससे परिवार के सदस्यों में प्यार हमेशा बना रहता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper