ये काम करने से लड़कियों को साल 2020 में मिलेगा मनचाहा जीवनसाथी

हर मां बाप को अपनी बेटी की शादी को लेकर चिंता होती हैं। मां बाप का सपना होता हैं कि उनकी बेटी को सही वर मिले जिससे वो जीवनभर खुश रहे सकें। शायद यही कारण हैं कि सभी मां बाप देख परख कर अपनी बेटी के लिए लड़का चुनते हैं। मगर कई बार ऐसा होता हैं कि रिश्ता होकर भी टूट जाता हैं या मनचाहा वर नहीं मिल पाता हैं।

वही शादी विवाह में वास्तुशास्त्र का विशेष स्थान होता हैं। रिश्ते जोड़ते समय आने वाली बाधाओं का कारण आपके घर का वास्तुदोष हो सकता हैं ऐसे में आज हम आपको कुछ सरल से उपाय बताएंगे जिन्हें अपनाकर आप आने वाले साल यानी की 2020 में आपकी विवाह के रास्ते खुलेंगे साथ ही में आपको मनचाहा वर भी प्राप्त होगा। बता दें कि विवाह योग्य लड़कियों को भगवान शिव के 16 सोमवार के व्रत रखने चाहिए।

इन्हें आप नए साल के पहले महीने से भी शुरू कर सकती हैं। इन व्रत को हमेशा ही शुक्ल पक्ष के पहले सोमवार को ही शुरू करना चाहिए। नियमित रूप से मंदिर जाकर शिवलिंग पर जल चढ़ाकर व्रत की कथा पढ़कर शिव जी और माता गौरा का आशीर्वाद लेना चाहिए। जिन लड़कियों की शादी होने में देरी हो रही हैं उन्हें रोजाना नहाने के पानी में हल्दी मिलाकर स्नान करना चाहिए।

ऐसा करने से इनके विवाह के संयोग जल्दी खुलते हैं। अगर किसी लड़की के घर वाले रिश्ते की बात करने जा रहे हैं तो उस दिन ​लड़की को रेड कलर के कपड़े ही पहनने चाहिए। उन लोगों को अपने हाथों से मीठा खिला कर लड़के वालों के यहां भेजना चाहिए। हो सके तो इस दौरान लड़की को अपने बाल खुले छोड़ने चाहिए। यह शुभ होता हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper