ये भी खूब रहीः कड़ाके की ठंड में डीएम साहब ने स्कूलों में कर दी ‘लू’ की छुट्टी

 इन दिनों समूचा उत्तर भारत भीषण ठंड की चपेट में हैं। इसके चलते कई जिलों में लगातार ठंड की छुट्टियां बढ़ाई जा रही हैं। इस बीच बिहार के गोपालगंज में एक मजेदार वाकया सामने आया है, जहां जिलाधिकारी ने ठंड की बजाय भीषण गर्मी की छुट्टी कर दी है। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे जिलाधिकारी के इस आदेश पत्र की वजह से डीएम अरसद अजीज की जमकर किरकिरी हो रही है।
NBT

जानकारी के मुताबिक, बिहार के गोपालगंज जिले में ठंड को देखते हुए 12 जनवरी तक की छुट्टी घोषित की गई थी लेकिन जब ठंड कम नहीं हुई तो जिलाधिकारी ने इस छुट्टी को 14 जनवरी तक के लिए बढ़ा दिया। इससे संबंधित आदेश पत्र में इस छुट्टी की वजह को ठंड न बताकर लू (हीटवेव) बताया गया, जिसके बाद जिलाधिकारी की जमकर किरकिरी हुई।
Image result for cold in school bihar

पत्र में लिखा था, ‘जिले में लगातार चल रहे लू वाले मौसम में बच्चों का स्वास्थ्य और जीवन खतरे में है। इसलिए कोड ऑफ क्रिमिनल प्रोसिजर 1973 के सेक्शन 144 के तहत सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में कक्षा 1 से 8 तक 13 और 14 जनवरी को शैक्षिक गतिविधियों पर रोक लगाई जाती है।’ हालांकि बाद में जब जिलाधिकारी कार्यालय को अपनी गलती का अहसास हुआ तो संशोधित पत्र जारी किया गया।
Image result for cold in school bihar

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper