ये है दुनिया का सबसे कम वजनी बच्चा, मां भी डरती थी हाथ लगाने से

टोक्यो: दुनिया से कम वजन वाला बच्चा बाहरी दुनिया में पैर रखने को तैयार है। उसके घर जाने की तैयारी हो गई है। इस बच्चे का जब जन्म हुआ तब उसका वजन 258 ग्राम था जिसने जापान के सबसे कम वजनी 268 ग्राम के बच्चे का रिकार्ड  भी तोड़ दिया।

दरअसल महिला तोशिको ने गर्भधारण के बाद हाई ब्लड प्रैशर की प्रॉब्लम हो गई। इस कारण 24 सप्ताह और पांच दिन के बाद महिला की डिलीवरी हुई और उसने रयुसुके सेकिये को जन्म दिया। जन्म के समय बच्चे का वजन मात्र 258 ग्राम था और लंबाई 22 सेंटीमीटर थी। 1 अक्तूबर 2018 को जन्मे बच्चे को डॉक्टरों ने उसे अति गहन चिकित्सा कक्ष में रखा था। बच्चा इतना पतला था कि उसे दूध पिलाने के लिए ट्यूब का सहारा लिया गया।

वे कभी-कभी मां का दूध पिलाने के लिए रुई का इस्तेमाल भी करते थे। करीब 6 महीने बाद बच्चे का वजन 13 गुना बढ़ गया और अब वह तीन किलोग्राम का है। उसे इस सप्ताहांत मध्य जापान में नगानो चिल्ड्रेंस अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी। तोशिको का कहना है कि उसे लगता था कि अगर उसे स्पर्श करेंगे तो वह टूट जाएगा। मैं बहुत चिंतित थी। अब वह दूध पीता है। हम उसे नहलाते हैं। मैं खुश हूं कि मैं उसे बड़ा होते देख पा रही हूं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper