योगी सरकार का बड़ा फैसला, 11 हजार कैदियों की 8 हफ्ते के लिए होगी रिहाई

लखनऊ: कोरोना वायरस के कहर के बीच उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने कैदियों को लेकर बड़ा फैसला लिया है. योगी सरकार ने सूबे की जेलों में बंद 11 हजार कैदियों को 8 सप्ताह के लिए निजी मुचलके पर रिहा करने जा रही है. सात साल से कम सजा वाले अपराधों के लिए जेल में बंद इन कैदियों की रिहाई सोमवार से शुरू हो जाएगी.

इससे पहले महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने कोरोना वायरस के चलते जेल से कैदियों को रिहा करने का ऐलान किया था. योगी सरकार ने भीड़भाड़ कम करने के मकसद से यह कदम उठा रही है, ताकि जानलेवा कोरोना वायरस उत्तर प्रदेश की जेलों में न फैले. योगी सरकार ने 11 हजार कैदियों को रिहा करने का निर्णय उस समय लिया है, जब उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 50 पहुंच गई है.

वहीं, भारत में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 930 पहुंच चुकी है. इनमें से 22 कोरोना मरीजों की मौत भी हो चुकी है, जबकि 82 लोग ठीक हो चुके हैं. कोरोना वायरस से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिन के देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान किया है.

चीन के वुहान से फैला कोरोना वायरस भारत ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में कहर बरपा रहा है. विश्वभर में कोरोना वायरस की चपेट में आने वाले लोगों का आंकड़ा 6 लाख के पास पहुंच चुका है, जिनमें से 28 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इसका सबसे ज्यादा प्रकोप इटली में देखने को मिल रहा है, जहां 9 हजार 134 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इसके बाद दूसरे नंबर पर स्पेन हैं, जहां कोरोना वायरस की चपेट में आने से 5 हजार से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper