योगी सरकार को बीजेपी ने बताया गरीबों की समर्पित सरकार

लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने योगी आदित्यनाथ सरकार को गरीबों की समर्पित सरकार बताया है। प्रदेश प्रवक्ता डॉ. चन्द्रमोहन ने बताया कि आवास एवं शहरी नियोजन विभाग ने इस वर्ष गरीबों के लिए डेढ़ लाख मकान बनाने का निर्णय लिया है। अगले दो वर्ष के भीतर कुल चार लाख से अधिक मकान बनाए जाने का लक्ष्य निर्धारित करना एक स्वागतयोग्य कदम है। निम्न आय वर्ग और अल्प आय वर्ग वाले लोगों को आसानी से आवास मुहैया हो सके इसके लिए निर्धारित आय सीमा को बढ़ाया गया है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में सत्ता संभालते ही योगी सरकार ने गरीबों के कल्याण के लिए अपनी प्राथमिकताएं तय कर दी थीं। प्रदेश में अधिक से अधिक गरीब व्यक्तियों को आवास मिल सके, इसके लिए भी आवास विकास परिषद ने प्रावधान किए हैं। प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य के पिछड़े 22 विकास खंडों में गरीबी दूर करने का अभियान की शुरुआत भी करने जा रही है। इसके तहत गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले युवकों को रोजगार से जोड़कर उन्हें समृद्ध बनाया जाएगा।

डा.चन्द्रमोहन ने बताया कि सपा और बसपा की सरकारें एक ओर जहां गरीबों के कल्याण की योजनाओं पर कुंडली मार कर बैठी रहीं, वहीं जो कुछ योजनाएं शुरू भी हुईं उनमें जमकर भ्रष्टाचार किया गया। गरीबों के नाम पर शुरू की गई समाजवादी पेंशन योजना में लगातार भ्रष्टाचार की परतें खुल रही हैं। गरीबों के कल्याण के बिना यूपी तरक्की नहीं कर सकता। भाजपा सरकार ने प्रदेश की योजनाओं में गरीबों की भागीदारी सुनिश्चित की है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper