योगी सरकार ने कर दिया सभी जरूरी सामानों के दाम तय, जानिए अनाज का रेट

लखनऊ. कोरोना वायरस के कारण जारी लॉकडाउन के बीच कई जगहों से जरूरी खाद्य सामानों की कालाबाजारी व अधिक मूल्य मांगने की शिकायतें आ रही हैं। इस बीच सीएम योगी ने इसपर नकेल कसते हुए सभी जिलाधिकारियों को निर्देश जारी दिए हैं कि सभी सामानों के एक दाम निश्चित करें और सभी मंडियों व दुकनदारों को उन्हीं दामों में बेचने के आदेश दें। इसी के मद्देनजर लखनऊ जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने आटा, दाल, चावल व अन्य सामग्री की दर तय कर दी है। इससे अधिक कीमत पर यदि कोई दुकानदार सामग्री बेचे तो ग्राहक इसकी शिकायत सीधे एडीएम आपूर्ति से कर सकता है, जिसका नंबर है- 9415005006।

इसके अतिरिक्त कालाबाजारी व जमाखोरी पर नकेल कसने के लिए प्रशासन ने हर वार्ड में टीमें तैनात कर दी हैं, जो राशन व दवा की दुकानों की जांच करेंगी। साथ ही यह टीमें प्रतिदिन मौके पर जाकर जांच करेंगी और यदि जरूरी सामानों की कमी पाई जाती है तो अधिकारियों को इससे अवगत कराएंगी।

यह है जरूरी सामानों के दाम (प्रति किलो)

आटा – 28-30

चावल – 27

अरहर दाल – 88-92

मूंग दाल – 100-105

चना दाल – 60-65

मसूर दाल – 50-60

पिसी हल्दी – 115

पिसी मिर्च – 230

राजमा – 100

चीनी – 38

सरसों तेल – 105-110

फल-सब्जी के रेट-

आलू – 25-26

सेब – 80-100

टमाटर – 28-30

प्याज – 25-26

दैनिक उपयोग हेतु आवश्यक वस्तुओं की अधिकतम दरें (रू०/कि०ग्रा०में) निर्धारित कर दी गई हैं ।निर्धारित की गई दरों से अधिक पर बिक्री करते पाए जाने पर वैधानिक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper