रंगकर्मी राजीव वर्मा को निर्वाचन आयोग के स्टेट आईकॉन से हटाने की मांग

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज निर्वाचन आयोग से मिलकर आयोग के स्टेट आईकॉन, रंगकर्मी और टीवी कलाकार राजीव वर्मा को आरएसएस से जुड़ी संस्था संस्कार भारती के प्रांतीय अध्यक्ष होने के नाते निर्वाचन आयोग के प्रचार-प्रसार कार्य से तत्काल प्रभाव से हटाने की मांग की है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा के नेतृत्व में आज कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने निर्वाचन सदन में जाकर अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अरुण कुमार तोमर को इस संबंध में एक शिकायत पत्र सौंपा। प्रतिनिधिमंडल में मीडिया उपाध्यक्ष भूपेन्द्र गुप्ता, विपिन वानखेड़े, रवि सक्सेना, विवेक त्रिपाठी, विक्की खोंगल, शाहवर आलम, अजयसिंह यादव, हर्षद शर्मा और अवनीश बुंदेला भी थे।

कांग्रेस ने शिकायत में कहा है कि राजीव वर्मा संस्कार भारती के प्रांतीय अध्यक्ष हैं जो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ी संस्था है। इस नाते वे संघ की बैठकों में बराबर हिस्सा लेते रहते हैं। विशेष राजनीतिक विचारधारा से जुड़े होने के कारण उनके द्वारा मतदाताओं को मतदान के लिए जागरूक और प्रेरित करना निर्वाचन की निष्पक्षता पर प्रश्नचिह्न खड़ा करता है। उन्हें निर्वाचन आयोग का स्टेट आईकॉन बनाया जाना आदर्श आचार संहिता का स्पष्ट उल्लंघन है। लिहाजा राजीव वर्मा को इस जिम्मेदारी से तत्काल मुक्त किया जाए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper