रमजान में संयुक्त अरब अमीरात में भीख मांगने विदेशों से आते हैं भिखारी

दुबई: संयुक्त अरब अमीरात की पुलिस ने भिखारियों को लेकर चौंकाने वाला खुलासा किया है। दुबई पुलिस का दावा है कि रमजान के महीने में एशियाई देशों के लोग यहा टूरिस्ट वीजा पर भीख मांगने आते हैं। हाल ही में दुबई पुलिस ने एशियाई देश से भीख मांगने दुबई आने वाले एक भिखारी को गिरफ्तार किया है। पुलिस का कहना है कि रमजान शुरू होने के बाद एशियाई देशों से बड़े पैमाने पर भिखारी विजिटर वीजा पर एक महीने के लिए दुबई आते और भीख की मोटी कमाई कर फिर अपने देश को वापस लौट जाते है।

पुलिस ने बताया कि कि एशियाई देशों में भारत, बांग्लादेश और पाकिस्तान के भिखारी शामिल हैं। दुबई पुलिस ने बताया कि रमजान के दौरान दुबई और अबूधाबी के साथ अन्य खाड़ी के देशों में भिखारियों की संख्या अचानक बढ़ जाती है। अखबार में छपी खबर के अनुसार,दुबई पुलिस के पुलिस कमिश्नर ने जब प्रेस कांफ्रेंस बुलाकर पूरी जानकारी दी तो पत्रकार भी हैरान रह गए।

पुलिस के तरफ से बताया गया कि इस महीने में 250 से ऊपर भिखारी पकड़े जा चुके हैं। वहीं दुबई पुलिस ने जिस भिखारी को गिरफ्तार किया है उसके पास से एक लाख दिरहाम बरामद किए गए हैं। बता दें कि रमजान के महीने में जरूरतमंदों की मदद करना एक बड़ी नेकी मानी जाती है इसलिए लोग इस पवित्र महीने में लोगों की मदद करते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper